Representational Pic
Representational Pic

    पुणे/पिंपरी :  पुणे महानगर क्षेत्र विकास प्राधिकरण (PMRDA) की पुणे जिला योजना समिति चुनाव के घोषित नतीजों के अनुसार पुणे (Pune) और पिंपरी-चिंचवड़ नागरी क्षेत्र (Pimpri-Chinchwad Nagari Area) की 22 में से भाजपा (BJP) को सर्वाधिक 14 सीटें मिली हैं। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने 7 सीटों पर कब्जा जमाया। शिवसेना (Shiv Sena) को एक सीट पर सफलता मिली है, जबकि कांग्रेस (Congress)की झोली खाली ही रह गई है। नागरी क्षेत्र से कांग्रेस के एकमात्र प्रत्याशी चंदूसेठ कदम को हार का सामना करना पड़ा।

    आगामी स्थानीय निकायों के चुनाव की पृष्ठभूमि पर हुए पुणे महानगर नियोजन समिति के चुनाव को लेकर सियासी गलियारों में काफी उत्सुकता थी। पुणे और पिंपरी-चिंचवड नागरी क्षेत्र की 22 सीटों के लिए ये चुनाव हुए। पुणे और पिंपरी-चिंचवड महानगरपालिका में नगरसेवकों के संख्याबल के अनुसार भाजपा के 14, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के 7, शिवसेना का एक सदस्य जीता है। पुणे में कांग्रेस के 10 नगरसेवक हैं, जबकि पिंपरी-चिंचवड़ महानगरपालिका में उसका एक भी नगरसेवक नहीं है। इस संख्याबल के हिसाब से कांग्रेस को इस चुनाव में एक भी सीट न मिलना तय था। 

    कांग्रेस को एक भी सीट पर नहीं मिली जीत

    हालांकि ये चुनाव निर्विरोध हों इसके लिए राष्ट्रवादी की ओर से उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने ग्रामीण क्षेत्र के कोटे से एक सीट कांग्रेस को देने की पेशकश की थी। हालांकि कांग्रेस ने इस पेशकश को ठुकरा दिया और नागरी क्षेत्र की एक सीट से पुणे के नगरसेवक चंदूसेठ कदम का नामांकन दाखिल कर इस चुनाव के निर्विरोध कराने चर्चा को पूर्ण विराम लगा दिया। बहरहाल पिंपरी-चिंचवड़ नागरी क्षेत्र की नौ में से भाजपा को 6, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी को तीन सीटें मिली। पुणे और पिंपरी-चिंचवड़ महानगरपालिका नागरी क्षेत्र से पुणे महानगरपालिका में कांग्रेस के एकमात्र नगरसेवक ने नामांकन दाखिल किया तब जिसे पराजय का सामना करना पड़ा।