Thief had escaped from hospital during corona treatment in Thane, Maharashtra, was caught from Silvassa after seven months
Representative Photo

    पुणे:  शहर पुलिस ने उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के एक बंटी-बबली (Bunty-Babli) दंपति को गिरफ्तार (Arrested) किया है। इन पर आरोप है कि इन्होंने आबकारी विभाग (Excise Department) के अधिकारी का स्वांग रच कर पुणे (Pune) के एक व्यक्ति से धोखाधड़ी (Fraud) की। आरोपियों ने 40 लाख रुपए लेकर शिकायतकर्ता को नकली शराब बेचने के लाइसेंस दिए थे।  

    शिकायतकर्ता ने शिवाजी नगर पुलिस थाने में पिछले दिनों शिकायत दर्ज करवाई थी। पुलिस ने कानपुर दंपति की पहचान शुभम दुर्गेश गौर (34) और उसकी पत्नी रंजना (31) के रूप में की है। शिकायतकर्ता के मुताबिक रंजना उसके संपर्क में आई और उसने दावा किया कि उसका पति शुभम दिल्ली आबकारी विभाग में सहायक आयुक्त है। शिकायतकर्ता को भरोसे में लेने के लिए रंजना ने पति का फ़र्ज़ी पहचान पात्र भी दिखाया, जिससे शिकायतकर्ता झांसे में आ गया। 

    बार-बार बदल रहे थे ठिकाना

    रंजना और शुभम ने शिकायतकर्ता से कई ऑनलाइन लेन-देन के जरिए  40,43,000 रुपए प्राप्त किए और बदले में उसे नकली शराब का लाइसेंस दिया। जांच से पता चला कि आरोपी कानपुर के रहने वाले थे, लेकिन बार-बार अपना ठिकाना बदल रहे थे। पुलिस उपनिरीक्षक अतुल क्षीरसागर अपनी टीम के साथ कानपुर गए और स्थानीय पुलिस की मदद से दंपति को गिरफ्तार कर लिया। इनके पास से एक महंगी कार, मोबाइल फोन और लैपटॉप बरामद किया गया है।