Decision to promote electric vehicles to reduce pollution

    पिंपरी. पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे (Environment Minister Aditya Thackeray) ने पिंपरी-चिंचवड़ (Pimpri-Chinchwad) में महाराष्ट्र औद्योगिक विकास महामंडल की चिंचवड़ बसाहत में इलेक्ट्रिक वाहन (Electric Vehicle) निर्माण कंपनी काइनेटिक ग्रीन एनर्जी एंड पावर सॉल्यूशंस लिमिटेड का दौरा किया और इलेक्ट्रिक वाहनों की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि राज्य में प्रदूषण (Pollution) बढ़ रहा है। बढ़ते प्रदूषण को रोकने के लिए राज्य सरकार ने ‘इलेक्ट्रिक व्हीकल पॉलिसी’ पेश की है। 

    इस कड़ी में राज्य में इलेक्ट्रिक वाहनों का निर्माण करने वाली कुछ कंपनियों का दौरा किया जा रहा है। सरकार इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने की कोशिश कर रही है और नागरिकों को ज्यादा से ज्यादा इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने चाहिए।

    किया जा रहा परीक्षण 

    उन्होंने कहा कि मैं राज्य में इलेक्ट्रिक वाहनों का निर्माण करने वाली कुछ कंपनियों का दौरा कर रहा हूं और उनसे चर्चा कर रहा हूं। कंपनियों में इसका उत्पादन कैसे होता है। हमें उत्पादन क्षमता के बारे में जानकारी मिल रही है। इलेक्ट्रिक वाहनों के आने के बाद कितने लोगों को इन वाहनों का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है, कितने लोग इलेक्ट्रिक वाहनों का खर्च उठा सकते हैं। इसका परीक्षण किया जा रहा है। राज्य में प्रदूषण बढ़ रहा है। इसके लिए सरकार इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने की कोशिश कर रही है। 

    प्रदूषण कम करने में मदद मिलेगी

     

    सरकार कंपनियों को इलेक्ट्रिक वाहन बनाने के लिए प्रोत्साहित कर रही है और भविष्य में इलेक्ट्रिक वाहनों के इस्तेमाल को प्राथमिकता देगी। इससे प्रदूषण कम करने में मदद मिलेगी। इस दौरे में पर्यावरण मंत्री ठाकरे ने इलेक्ट्रिक वाहन की उत्पादन लागत,वाहन की गुणवत्ता,बैटरी क्षमता, उत्पादन अवधि, चार्जिंग अवधि आदि के बारे में जानकारी ली। इस अवसर पर पर्यावरण राज्य मंत्री संजय बनसोडे, पूर्व आवास राज्य मंत्री सचिन अहीर, कंपनी के अध्यक्ष पद्मश्री अरुण फिरोदिया, कार्यकारी निदेशक अजिंक्य फिरोदिया, मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुलेजा फिरोदिया आदि उपस्थित थे। पर्यावरण मंत्री ठाकरे ने कंपनी परिसर में पौधे भी लगाए।