Ajit Pawar condemns demolition in Ambedkar residence

    पुणे: महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजित पवार ने शुक्रवार को कहा कि 19 सितंबर को गणेश प्रतिमा विसर्जन के लिए पुणे में गैर-जरूरी वस्तुओं की सभी दुकानें बंद रहेंगी क्योंकि जिले में कोविड-19 संक्रमण दर में सुधार के मद्देनजर त्योहार के अंतिम दिन के दौरान भीड़-भाड़ से परहेज करने की जरूरत है।

     उप मुख्यमंत्री ने कहा कि हालांकि, भोजनालय खुले रहेंगे और इन पर विस्तृत निर्देश जिला और निगम प्राधिकारों द्वारा जारी किए जाएंगे। उन्होंने कहा, ‘‘पुणे जिले की कोविड-19 स्थिति की समीक्षा के दौरान यह पाया गया जिले की स्थिति में धीरे-धीरे सुधार हो रहा है। पुणे में साप्ताहिक संक्रमण दर और मृत्यु दर में कमी आई है।

    रविवार को विसर्जन के दिन भीड़-भाड़ को हतोत्साहित करने के लिए एहतियाती कदम के रूप में, पुणे और पिंपरी चिंचवाड़ निगम सीमा और तीन छावनी क्षेत्रों में गैर-आवश्यक श्रेणी के तहत सभी दुकानें बंद रहेंगी।”  उन्होंने बताया कि जिले में 92 लाख से अधिक लोगों को कोविड​​-19 टीके की खुराक लग चुकी है। इनमें से लगभग 77 प्रतिशत पात्र लाभार्थियों को पहली खुराक मिल चुकी है और 41 प्रतिशत लोग दोनों खुराक ले चुके हैं।

    अजित पवार ने कहा कि वह उत्तर प्रदेश के लखनऊ में जीएसटी परिषद की 45वीं बैठक में शामिल नहीं हो पाए लेकिन राज्य का प्रतिनिधित्व करने वाले महाराष्ट्र की मांग को उठाएंगे कि पेट्रोल और डीजल को माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के दायरे में नहीं लाया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि केंद्र का महाराष्ट्र पर जीएसटी मुआवजे के रूप में 29,500 करोड़ रुपये बकाया है।