Ajit pawar

    पुणे. मौजूदा समय में पुणे (Pune) में अलग-अलग काम चल रहे हैं। काम समय पर पूरा करने की जरूरत है। उपमुख्यमंत्री अजीत पवार (Deputy Chief Minister Ajit Pawar) ने ठेकेदारों (Contractors) को सलाह दी है कि लोगों की सहनशीलता के खत्म होने का इंतजार न करें। शिलान्यास समारोह में अजीत पवार ने कहा कि केंद्र, राज्य और महानगरपालिका के समन्वय से काम समय पर पूरा किया जाए। हम केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के काम की गति को जानते हैं। यहां के लोगों को कम से कम परेशानी होगी। 

    अजीत पवार ने कहा कि ठेकेदार, महानगरपालिका को समय पर काम पूरा करने पर ध्यान देना चाहिए। राज्य सरकार की जरूरत होगी तो  किसी भी समस्या को दूर करने के लिए वे तैयार हैं। ऐसा वादा उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने दिया।

    अन्य राज्यों की तुलना में महाराष्ट्र में मुआवजे की दर अधिक

    विकास और काम तेज गति से होनी चाहिए। इसमें कोई दोराय नहीं है। बीच में राज्य सरकार ने जमीन के बदले मुआवजा देने का फैसला किया था। देश के अन्य राज्यों की तुलना में महाराष्ट्र में मुआवजे की दर ज्यादा थी। अब इसे बदलना है, ऐसा अजीत पवार ने कहा। उन्होंने कहा कि कई जगहों पर एक एकड़ जमीन के लिए 18 करोड़ रुपए देने के मामले सामने आए हैं। एक एकड़ जमीन के लिए 18 करोड़ रुपए देना व्यवहारिक नहीं है। एक समय में ऐसा होता था कि पैसे कम मिलने की वजह से लोग परेशान हो गए थे। अब जब लोग मिलते हैं, तो सड़क को जंगल से ले जाने की विनती करते हैं, इसमें पूरी तरह से विरोधाभास है। इस ओर अजीत पवार ने ध्यान खींचा।