chandrakant patil

    पिंपरी. सियासी गलियारों में हमेशा भूकंप के संकेत देनेवाले भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल (BJP State President Chandrakant Patil) ने फिर से राज्य में सियासी भूकंप के संकेत दिए हैं। पिंपरी-चिंचवड़ (Pimpri-Chinchwad) से सटे देहूगांव में एक निजी कार्यक्रम में सूत्र संचालन करनेवाले को बीच में ही टोकते हुए पाटिल ने कहा कि मुझे बार-बार पूर्व मंत्री, पूर्व मंत्री न कहें, दो-तीन दिन में सब समझ में आ जायेगा। इस कार्यक्रम का एक वीडियो (Video) भी वायरल (Viral) हो गया है। पाटिल के इस बयान के बाद सियासी गलियारों में फिर एक बार हड़कंप मच गया है। आखिर ऐसा क्या होनेवाला है जिससे पाटिल को पूर्व मंत्री कहलाने की नौबत नहीं आएगी? इस बारे में अलग- अलग तर्क लगाए जा रहे हैं।

    देहूगांव में एक दुकान के उद्घाटन के लिए भाजपा प्रदेशाध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल आज सुबह यहां पधारे थे। यहां वे जिस कार्यक्रम के मंच पर बैठे थे वहां सूत्र संचालन कर रहा एक व्यक्ति लगातार पाटिल का नामोल्लेख करते हुए पूर्व मंत्री कह रहा था। इस दौरान पाटिल ने उसे सबके सामने बीच में ही टोकते हुए कहा कि बार-बार उन्हें पूर्व मंत्री कहकर न पुकारें, दो- तीन दिन में सबके समझ में आ जायेगा। उनके इस बयान का सियासी गलियारों में अलग अलग मतलब निकाला जा रहा है। इसमें एक मतलब यह भी निकाला जा रहा है कि राज्य में फिर कोई सियासी भूकंप होने वाला है। आखिर चंद्रकांत पाटिल क्या संकेत देना चाह रहे हैं? इस बारे में अलग-अलग तर्क वितर्क लगाए जा रहे हैं।

    संभाजी ब्रिगेड और भाजपा के बीच गठबंधन के संकेत!

    इस बीच, मराठा सेवा संघ के वर्धापन दिन के उपलक्ष्य में पुरुषोत्तम खेडेकर द्वारा लिखे गए लेख में संभाजी ब्रिगेड और भाजपा के बीच गठबंधन की बात कही गई है। इससे राज्य में नए सियासी समीकरण बनने की चर्चा ने जोर पकड़ा है। इसके बारे पूछे जाने पर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष चंद्रकांत पाटील ने मीडिया से की गई बातचीत में कहा कि खेडेकर ने अपने मुखपत्र में वह बात लिखी है, भाजपा की ओर से वैसा कोई प्रस्ताव या फैसला नहीं किया गया है। अगर वे गठबंधन की बात कह रहे हैं तो भी उनकी क्या ऑफर है? इस बारे में भी कोई प्रस्ताव नहीं आया है। उन्होंने यह भी कहा कि उनकी ऑफर और उस पर चर्चा के बाद ही इस बारे में ठोस कुछ कहा जा सकेगा।