Rahul Kalte

    पिंपरी: भाजपा (BJP) की सत्तावाली पिंपरी-चिंचवड़ महानगरपालिका (Pimpri-Chinchwad Municipal Corporation) में फिजूलखर्ची पर कहीं लगाम कसता नजर नहीं आ रहा। सांगवी से किवले 16 किमी के बीआरटी मार्ग(BRT Route)  पर 329 करोड़ खर्च करने बाद जब पूरा रास्ता सुस्थिति में है तब सुशोभीकरण के नाम पर 90 करोड़ रुपए का नया टेंडर जारी किया गया है। फिजूलखर्ची वाले इस टेंडर को तत्काल रद्द करने की मांग महानगरपालिका में शिवसेना (Shiv Sena) के गुटनेता राहुल कलाटे (Rahul Kalate) ने की है।

    कलाटे ने कहा कि सांगवी से किवले 45 मीटर चौड़े बीआरटी मार्ग विकसित किया गया है। यह प्रशस्त सड़क है बीआरटी का स्वतंत्र मार्ग है। गत 10 सालों में इस मार्ग पर 328 करोड़ 73 लाख रुपए खर्च किए गए हैं। इसमें प्रशस्त सड़क, पदपथ, बीआरटी मार्ग, ग्रेडसेपरेटर आदि कामों का समावेश है। अब जब यह पूरी सड़क सुस्थिति है तब सुशोभीकरण, सड़क समतल करने और चेंबर लेवल करने के लिए 90 करोड़ रुपए खर्च किये जा रहे हैं। सांगवी से कालेवाडी फाटा मार्ग का काम स्मार्ट सिटी के अंतर्गत करने का प्लान फेल होने से उसके लिए महानगरपालिका का 30 करोड़ का बजट नियमबाह्य तरीके से वर्ग किया गया। सर्वसाधारण सभा में इसका प्रस्ताव भी पारित किया गया। स्मार्ट सिटी का काम करनेवाली ठेकेदार कंपनी को यह काम सीधे तौर पर सौंपा गया है। 

    60 करोड़ रुपए का टेंडर जारी किया गया था

    कालेवाड़ी फाटा से किवले मार्ग पर दो खंडों में कार्य के लिए एक अक्टूबर को कुल 60 करोड़ रुपए का टेंडर जारी किया गया था। यह कुल 90 करोड़ का काम है। कालेवाड़ी से डांगे चौक रोड पर कई जगहों पर 45 मीटर सड़क और फुटपाथ नहीं है। रावेत ब्रिज से किवले तक की सड़क मात्र 30 मीटर लंबी है।  इसलिए, परियोजना को पूरी तरह से पूरा नहीं किया जा सकता है। ऐसा टेंडर प्रकाशित होने से पहले सड़क सुदृढ़ीकरण निरीक्षण रिपोर्ट तैयार किए बिना शिकायत दर्ज कराने के बाद किया गया है। नए काम में दोनों तरफ 7 मीटर चौड़ा फुटपाथ शामिल होगा।  सड़क पर बीआरटी होने से यह सड़क संकरी हो जाएगी और ट्रैफिक जाम की स्थिति पैदा हो जाएगी।  इसकी ओर ध्यानाकर्षित करते हुए शिवसेना के गुटनेता राहुलकलाटे ने मांग की है कि इन कार्यों का टेंडर तत्काल रद्द किया जाए।