India first choice for investment Anurag Thakur

  • वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर का दावा

पुणे. ‘आत्मनिर्भर भारत’ की संकल्पना यानी केवल दृष्टि नहीं तो भारत के लिए स्वावलंबन और  शाश्वत विकास के लिए रची गई आर्थिक रणनीति है. जिसमें निजी क्षेत्रों  के साथ ही हर क्षेत्र के लिए पर्याप्त संधि उपलब्ध है. इनोवेशन (Innovation) और रोजगार (Employment) निर्मिति के अनेक मार्ग इस संकल्पना से खुलेंगे.

वैश्विक बाजार में निवेश (Investment) के लिए अब भारत (India) पहली पसंद बन चुका है. किसी भी नई कल्पना को कार्यान्वित करने के लिए भारत उत्तम स्थान है. भारत में किसी भी व्यवसाय के दुगने वृद्धि की गारंटी है. उक्त दावा भारत के वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर (Anurag Thakur) ने किया.

सालाना अंतरराष्ट्रीय संशोधन परिषद ‘सिम्सआर्क  20’ उद्घाटित

सिंबायोसिस इन्स्टिटयूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज, पुणे की ओर से आयोजित 11वीं वार्षिक अंतरराष्ट्रीय संशोधन परिषद ‘सिम्सआर्क 20’ के प्रमुख अतिथि के रूप में वे आमंत्रित थे. यह परिषद  सिंबायोसिस स्वर्ण महोत्सव वर्ष के उपलक्ष्य में आयोजित व्याख्यानमाला का एक भाग था.  परिषद का मुख्य विषय भारत को  5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने के लक्ष्य : संधि और चुनौतियां था.

संरचनात्मक सुधार जरूरी

ठाकुर ने कहा कि कोविड19 के कारण आपूर्ति श्रृंखला पूरी तरह से टूट चुकी है. इससे उद्योग धंधों में अनेक बाधाएं आ चुकी हैं. भारतीय अर्थव्यवस्था के  मजबूत पुनरुज्जीवन के लिए संरचनात्मक सुधार जरूरी है. सभी प्रकार के आर्थिक निर्देशकों को स्थिर रखने के लिए शुरू किए गए उपक्रमों के बारे में उन्होंने कहा कि वार्षिक वृद्धि दर, जीडीपी, फॉरेक्स, एफडीआई, महंगाई, रोजगार, कुल बचत, तकनीक प्रगति, भारत को मजबूत अर्थव्यवस्था के तौर पर आगे ले जाएंगे. उन्होंने कहा कि हमारा देश उत्पादन और निर्यात जैसे क्षेत्रों में पॉवर हाऊस बनाना और देश के युवाओं को भविष्य के लिए तैयार कर विश्व के सबसे बड़ा कुशल कार्यशक्ति का केंद्र बनाना ही केंद्र सरकार का लक्ष्य है. उन्होंने कहा कि 2020 का साल ऐतिहासिक सुधारों के तकनीकी परिवर्तन और संकट की घड़ी में भी अवसर के वर्ष के तौर पर जाना जाएगा. इस समय सिंबायोसिस के संस्थापक और अध्यक्ष डॉ. शां. ब. मुजुमदार, डॉ. विद्या येरावडेकर, डॉ. रजनी गुप्ते, उपस्थित थे.