Thane, Maharashtra, pot hole on a road leads to death of Mother-Son
File Photo

    सातारा. ससुराल वालों की प्रताड़ना से तंग आकर एक विवाहिता ने अपने 3 वर्ष के बच्चे (Children) को जहर देने के बाद खुद भी जहर (Poison) खाकर आत्महत्या (Suicide) कर ली। सातारा (Satara) के भुइंज में यह घटना सामने आई है। इस मामले में पुलिस (Police) ने महिला के पति, सास, ससुर और ननद के खिलाफ केस दर्ज (Case Registered) किया है। इस घटना को लेकर भुईज पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, वरचे चाहुर भुईज में पूजा सुदाम भोरे ने ससुराल वालों की प्रताड़ना से तंग आकर अपने बेटे राजवीर और खुद जहर खाकर आत्महत्या कर ली।  दोनों को सातारा के क्रांतिसिंह नाना पाटिल हॉस्पिटल में उपचार के लिए भर्ती कराया गया था। उपचार के दौरान पूजा की मौत हो गई, जबकि उसके बेटे राजवीर का भोर के आईसीयू में उपचार चल रहा है।

    देर रात भुईज के श्मशान भूमि में पूजा का अंतिम संस्कार किया गया। इस घटना को लेकर देर रात भुईज पुलिस स्टेशन में केस दर्ज किया गया है। पूजा के भाई ने आत्महत्या मामले में बहन के पति सुदाम भगवान भोरे, ससुर भगवान बाबूराव भोरे, सास हीराबाई भगवान भोरे व ननद माधुरी किशन देडे (सभी निवासी काकरंबा, तुलजापुर, उस्मानाबाद) के खिलाफ शिकायत दर्ज कराया है। संदिग्धों को कस्टडी में लेने के लिए पुलिस रवाना हो गई है। 

    ब्लैकमेलिंग से त्रस्त रिक्शा चालक की खुदकुशी

    उधर, अनैतिक संबंध की जानकारी पत्नी को देने की धमकी देकर लाखों रुपए वसूलने के बाद भी पैसों के लिए की जा रही ब्लैकमेलिंग से तंग आकर एक ऑटो रिक्शा चालक ने आत्महत्या कर ली है। सातारा के करंज पेठ में सामने आई इस घटना को लेकर शाहुपुरी पुलिस ने तीन लोगों के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने का मामला दर्ज किया है। पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, इस बारे में रिक्शा चालक की पत्नी वैशाली विजय ननावरे (36) ने शिकायत दर्ज कराई है। पुलिस ने बताया कि वैशाली का पति विजय रिक्शा चालक था और गजरा बेचने का भी काम करता था। उसके शेखर आंग्रे, कैटरिंग का काम करने वाले राजू पोतनीस और एक अन्य महिला के साथ करीबी संबंध थे और उनका एक दूसरे के घर आना-जाना भी था। 4 सितंबर को विजय ननावरे ने वैशाली को फ़ोन कर राजू, शेखर और संबंधित लोगों से परेशानी होने का जिक्र किया था। उसे ब्लैकमैलिंग कर लुटा गया जो अब उससे बर्दाश्त नहीं हो रहा है। बच्चों पर ध्यान देने की बात कहकर फ़ोन काट दिया। विजय ने इस बारे में अपनी पत्नी को मैसेज भी भेजा। यह जानकारी वैशाली ने अपने देवर रमेश को दी। उसने विजय को फ़ोन लगाया, लेकिन विजय ने  फ़ोन नहीं उठाया।  इसके बाद विजय को ढूंढा जाने लगा। विजय के होटल सुरुबन में होने की जानकारी मिली। वहां पर राजू, शेखर और संबंधित महिला मिली। उनसे विजय के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि उसने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। पति की मौत के कारण वैशाली की मानसिक स्थिति ठीक नहीं थी। इसलिए उसने 15 सितंबर को इस मामले में केस दर्ज कराया। मामले की जांच पुलिस निरीक्षक संजय पतंगे कर रहे है।