गैंगस्टर संतोष जगताप हत्या के आरोपियों पर मकोका

    पुणे: गैंगस्टर और रेत कारोबारी संतोष जगताप हत्याकांड के आरोपियों के खिलाफ पुणे पुलिस (Pune Polices) ने महाराष्ट्र संगठित अपराध प्रतिबंध कानून (मकोका) के तहत कार्रवाई की है। इसमें हत्याकांड का मास्टरमाइंड और गैंग सरगना महादेव आदलिंगे (Mahadev Adalinge) समेत 6 आरोपियों का समावेश है। बहरहाल पुणे पुलिस की कमान संभालने के साथ ही संगठित अपराध की कमर तोड़ने में जुटे पुलिस कमिश्नर अमिताभ गुप्ता (Police Commissioner Amitabh Gupta) की अब तक यह 60वीं मकोका (MCOCA) की कार्रवाई है। 

    गैंगस्टर संतोष जगताप हत्या के मामले में जिन आरोपियों के खिलाफ मकोका की कार्रवाई की गई है उनमें महादेव बालासाहेब आदलिंगे (28), स्वागत बापु खैरे (25), पवन उर्फ प्रशांत गोरख मिसाल (29), उमेश सोपान सोनवणे (35), अभिजीत अर्जुन यादव (22, निवासी बारामती, पुणे), आकाश उर्फ बालू जगन्नाथ वाघमोडे (28) और महेश भाऊसाहेब सोनवणे (28) का समावेश है। इनमें से महादेव आदलिंगे यह इस गैंग का सरगना और जगताप हत्याकांड का मास्टरमाइंड बताया गया है। 

     महादेव आदलिंगे के खिलाफ कई संगीन मामले दर्ज

    पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, महादेव आदलिंगे के खिलाफ हत्या, हत्या का प्रयास जैसे कई संगीन आपराधिक मामले दर्ज हैं। उसकी और उसकी गैंग की लोणी कालभोर परिसर में दहशत है। यह गैंग अपने आर्थिक फायदे और गैंग का वर्चस्व बनाए रखने के लिए आपराधिक वारदातें करती आई हैं। 2011 में आरोपी उमेश सोनवणे के भाई चाचा की हुई हत्या का बदला लेने के लिए गैंगस्टर संतोष जगताप की हत्या की गई, यह जांच में सामने आया है। जगताप हत्याकांड को लेकर लोणी कालभोर पुलिस थाने में हत्या का मामला दर्ज किया गया है।

    अब तक कुल 60 गैंगों के खिलाफ मकोका की कार्रवाई

    पुलिस ने बताया कि महादेव आदलिंगे और उसकी गैंग के खिलाफ पुणे, पिंपरी-चिंचवड, पुणे ग्रामीण और उस्मानाबाद शहर में कुल 15 आपराधिक मामले दर्ज हैं। उनकी दहशत के चलते कोई उनके खिलाफ शिकायत दर्ज कराने आगे नहीं आता। इसे ध्यान में लेकर इस गैंग के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के उद्देश्य से लोणी कालभोर थाने के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक राजेंद्र मोकाशी ने गैंग के खिलाफ मकोका की कार्रवाई करने का प्रस्ताव तैयार किया और उसे परिमंडल-5 की पुलिस उपायुक्त नम्रता पाटील के जरिए अप्पर पुलिस आयुक्त नामदेव चव्हाण के पास भेजा गया। उन्होंने इस प्रस्ताव की छानबीन करने के बाद अंतिम मंजूरी के लिए पुलिस कमिश्नर अमिताभ गुप्ता के पास भेजा। उनकी मंजूरी की मुहर लगने के बाद आदलिंगे और उसकी गैंग के खिलाफ मकोका की कार्रवाई की गई। गौरतलब है कि गुप्ता के पदभार संभालने के बाद से लेकर अब तक कुल 60 गैंगों के खिलाफ मकोका की कार्रवाई की गई और करीबन 500 बदमाशों को जेल भेजा गया।