pune police

    पुणे/ पिंपरी. कोरोना महामारी (Corona Pandemic) की दूसरी लहर (Second Wave) का प्रकोप कम हो गया है, लेकिन अभी यह खत्म नहीं हुआ है। उल्टे तीसरी लहर (Third Wave) का खतरा बराबर मंडरा रहा है। इसके बावजूद पुणे (Pune) और पिंपरी- चिंचवड़कर (Pimpri – Chinchwadkar) नियमों में ढिलाई देने के बाद से दिन-ब-दिन बेखौफ नजर आ रहे हैं। उनके सिर पर कोरोना की संभावित तीसरी लहर की तलवार अभी भी लटक रही है। नियमों का कड़ाई से पालन ही कोरोना संक्रमण से बचाव का एक मात्र उपाय है, प्रशासन बार-बार यह कह रहा है। मगर इसे नजरअंदाज करते हुए आज भी कई लोग बिना मास्क के सड़कों पर घूमते नजर आ रहे हैं। उन्हें न तो कोरोना की फिक्र रही, न ही दंडात्मक कार्रवाई का डर। 

    गणेशोत्सव के दौरान हो रही भीड़ के कारण अगले दस से बारह दिनों में पुणे शहर में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ने की आशंका जताई जा रही है। साथ ही राज्य सरकार लगातार कोरोना की तीसरी लहर की चेतावनी दे रही है। हालांकि, लगता है कि पुणे और पिंपरी-चिंचवड़ के निवासियों का इस चेतावनी या संभावित रूप से बढ़ रहे मरीजों की संख्या से कोई लेना-देना नहीं है। गणेशोत्सव का आज आठवां दिन है। 

    सड़कों पर गणेश भक्तों की संख्या बढ़ी

    सड़कों पर गणेश भक्तों की संख्या छठें दिन से काफी बढ़ गई है। इतनी भीड़ में सामाजिक दूरी बनाए रखना संभव नहीं है। हालांकि कम से कम मास्क का इस्तेमाल करना और हाथों को बार-बार सैनिटाइजर से साफ करना संभव है। मास्क न पहनने, बिना मास्क के भीड़ में न जाने से बचने और दंडात्मक कार्रवाई से छुटकारा मिले, इस उद्देश्य से मास्क ठुड्डी पर लगाने वालों की संख्या में काफी वृद्धि हुई है।

    पुलिस कर रही जगह-जगह नाकेबंदी

    गौरी के साथ-साथ पांच दिन के गणपति का विसर्जन होने के बाद मंगलवार से सड़कों पर भीड़ बढ़ने लगी है। कोरोना महामारी के मद्देनजर पुणे पुलिस फिर सख्त हो गई है। रात दस बजे के बाद शहर में नाकेबंदी  की शुरुआत की गई है। शहर के मुख्य क्षेत्रों में भक्तों की अधिक भीड़ होने की वजह से इन क्षेत्रों में रात दस बजे के बाद कड़क नाकेबंदी की जा रही है। इस बारे में जानकारी देते हुए पुणे के सह पुलिस आयुक्त डॉ. रविंद्र शिसवे ने बताया कि शहर के मुख्य क्षेत्रों में कड़क नाकेबंदी की जाएगी। रात दस बजे के बाद स्थानीय लोगों और वैध वजहों के बिना घूमने वालों से पूछताछ की जाएगी। जिला और पुलिस प्रशासन द्वारा गणेश उत्सव की अवधि में शहर के मुख्य क्षेत्रों में भीड़भाड़ नहीं करने को लेकर विभिन्न तरह से जनजागृति की जा रही है। इसके बावजूद लोगों के कानों पर जूं तक नही रेंग सकी है। शहर में उमड़ती भीड़ आनेवाले दिनों में बड़े खतरे का आगाज कर रही है।