Man who committed atleast 500 theft across the country till now was arrested from Bhubaneshwar, Odisha
File Photo

    पुणे : संदिग्ध परिस्थितियों में सॉफ्टवेयर इंजीनियर (Software Engineer) की लाश (Dead Body) मिलने की गुत्थी को पुणे पुलिस (Pune Police) ने सुलझा ली है। पुलिस को बताया गया था कि पारिवारिक विवाद में इंजीनियर (Engineer) ने खुद को गोली मार ली थी। हालांकि पुलिस की जांच में यह स्पष्ट हुआ है कि शराब पार्टी के दौरान हुए विवाद में दोस्तों ने ही इंजीनियर को गोली मारकर उसकी हत्या कर दी। इस मामले में कोंढवा पुलिस (Kondhwa Police) ने इंजीनियर के दो दोस्तों को गिरफ्तार किया है। यह घटना 11 अक्टूबर की शाम साढ़े पांच बजे से पहले घटी थी।

    इस मामले में गिरफ्तार किए गए आरोपियों में सागर दिलीप बिनावत (33) और दत्तात्रय देवीदास हज़ारे का समावेश है। पुलिस ने इस वारदात में इस्तेमाल की गई पिस्तौल को कुंए में फेंके जाने की जानकारी भी सामने आई है। इस वारदात में गणेश तारलेकर (47) नामक सॉफ्टवेयर इंजीनियर की हत्या हुई है। इस मामले में उनकी पत्नी स्फूर्ति गणेश तारलेकर (42) ने कोंढ़वा पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई है। 

    पिता के घर रह रही थी पत्नी

    इस मामले में पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, सॉफ्टवेयर इंजीनियर गणेश तारलेकर विवाहित थे और उन्हें एक 14 वर्ष का बेटा है। पारिवारिक झगड़ों की वजह से उनकी पत्नी अपने बेटे के साथ पिछले एक वर्ष से अपने पिता के पास रह रही थी। पिछले रविवार की दोपहर गणेश तारलेकर अपने दो दोस्तों के साथ घर में पार्टी कर रहे थे। उस वक़्त गणेश ने पिस्तौल निकालकर खुद को गोली मार ली। इस घटना से उनके दोनों दोस्त घबरा गए। वे तारलेकर को उसी हालत में उनके घर में छोड़कर भाग गए। दूसरे दिन दोपहर को पुलिस को इस घटना की जानकारी मिली।  

    पिस्तौल को कुएं में फेका

    कोंढवा पुलिस की टीम ने जब घर जाकर देखा तो तारलेकर लहूलुहान पड़े थे। करीब एक दिन तक  उनका शव घर में ही पड़ा था। इस घटना से दो दिन पहले गणेश तारलेकर ने अपने ससुर को फ़ोन कर आत्महत्या करने की धमकी दी थी। इस तरह की शिकायत उन्होंने कोंढवा पुलिस से की थी। उनके दोस्तों द्वारा दिए गए बयान और घटना के दो दिन पहले के वाकये को लेकर पुलिस को संदेह हो रहा था। जब इस मामले की जांच की गई तो सच्चाई कुछ और निकलकर सामने आई। शराब पार्टी के दौरान उसके दोनों दोस्तों ने मिलकर किसी बात को लेकर तारलेकर के सिर पर गोली मारकर उनकी हत्या कर दी और इसके बाद सबूत नष्ट करने के उद्देश्य से पिस्तौल को कुएं में फेंकने का खुलासा हुआ है। तारलेकर की पत्नी की शिकायत पर पुलिस ने दोनों दोस्तों को गिरफ्तार कर लिया है।