Pune Kirit Somaiya

  • 'जरांडेश्वर' की तरह खोतकर ने बेनामी तरीके से खरीदी जालना चीनी मिल
  • नांगरे पाटिल की पत्नी और ससुर भी शेयर होल्डर

पिंपरी: महाविकास आघाडी सरकार के नेताओं और मंत्रियों के भ्रष्टाचार की पोलखोल करने में जुटे भाजपा नेता किरीट सोमैया (BJP Leader Kirit Somaiya) की रडार (Radar) पर अब शिवसेना (Shiv Sena) नेता अर्जुन खोतकर (Arjun Khotkar) और मुंबई पुलिस के संयुक्त पुलिस आयुक्त विश्वास नांगरे पाटील (Vishwas Nagre Patil) आ गए हैं। उपमुख्यमंत्री अजीत पवार ने जिस तरीके से जरांडेश्वर चीनी मिल खरीदी ठीक उसी बेनामी तरीके से शिवसेना नेता खोतकर ने जालना सहकारी चीनी मिल खरीदी है। 

पिंपरी-चिंचवड़ में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में भाजपा नेता सोमैया ने खुलासा किया कि खोतकर द्वारा खरीदी गई चीनी मिल में शेयर होल्डर रही एक कंपनी में मुंबई के संयुक्त पुलिस आयुक्त विश्वास नांगरे पाटिल की पत्नी और ससुर की भी भागीदारी है। 

जांच पूरी होने तक नागरे पाटिल को पुलिस बल से मुक्त करने की मांग की

पिंपरी मोरवाड़ी स्थित भाजपा के शहर कार्यालय में आयोजित इस प्रेस कांफ्रेंस ने किरीट सोमैया ने जालना चीनी मिल की बेनामी तरीके से की गई खरीदी की सीबीआई जांच करने और जांच पूरी होने तक नागरे पाटिल को पुलिस बल से मुक्त करने की मांग की है। भाजपा के सत्तावाली पिंपरी-चिंचवड़ महानगरपालिका की स्मार्ट सिटी परियोजनाओं में भ्रष्टाचार की शिवसेना द्वारा सौंपी गई फाइल के बारे पूछने पर उन्होंने स्पष्टीकरण दिया कि शिवसेना नेता संजय राउत द्वारा भेजी गई फाइल में किसी तरह का कोई प्रमाण या सबूत के कागजात नहीं है। उनकी पार्टी के स्थानीय नेताओं ने पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे और शहरी विकास मंत्री एकनाथ शिंदे से की गई शिकायत पत्रों की प्रतियां उन्हें मिली है। उन पर गौर करें तो ये सारे पत्राचार सालभर से जारी रहने की बात स्पष्ट होती है। फिर उनकी पार्टी राज्य की सत्ता में रहने के बाद भी उनके पत्रों की दखल क्यों नहीं ली गई, क्या मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ‘सेटल’ हो गए हैं? यह सवाल उठाकर किरीट सोमैया ने खलबली मचा दी।

आघाडी सरकार महाराष्ट्र की जनता से लूटखसोट कर रही 

भाजपा नेता ने संवाददाताओं को बताया कि जालना सहकारी चीनी मिल को शिवसेना नेता अर्जुन खोतकर के स्वामित्व वाली अर्जुन शगर इंडस्ट्रीज प्रा. लि. ने खरीदी है जिसके शेयर होल्डर में अजीत सीड्स प्रा. लि. नामक कंपनी भी शामिल है, जो मुंबई पुलिस के संयुक्त पुलिस आयुक्त विश्वास नांगरे पाटिल के ससुर पद्माकर मुले के स्वामित्व वाली है। इस कंपनी के शेयर होल्डरों में मुले परिवार के सदस्यों के साथ नांगरे पाटिल की पत्नी रुपाली विश्वास नागरे पाटिल भी शामिल है। जालना चीनी मिल की बेनामी तरीके से खरीदने की कोशिश ही संदिग्ध है। इस खरीददारी की व्यापक जांच के लिए इसे सीबीआई को सौंपने और जांच होने तक विश्वास नांगरे पाटील को पुलिस बल से कार्यमुक्त करने की मांग की है। उन्होंने एक सवाल के जवाब में यह भी आरोप लगाया है कि घोटालेबाज ठाकरे और पवार और उनकी महाविकास आघाडी सरकार महाराष्ट्र की जनता से लूटखसोट कर रही है, उन्हें बेनकाब कर कार्रवाई होने तक शांत नहीं बैठेंगे।

शिवसेना ने दिखाए काले झंडे, की नारेबाजी

पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ने पर आंदोलन करने वाली महाविकास आघाडी सरकार अब जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पेट्रोल और डीजल पर टैक्स कम कर दिया है तब महाराष्ट्र में टैक्स कम करने में टालमटोल की जा रही है। अगर राज्य सरकार अपना टैक्स कम करती है तो पेट्रोल डीजल के दाम नियंत्रण में आ सकते हैं। राज्य सरकार यह टैक्स कम जनता को राहत दें, यह मांग भी सोमैया ने की। इस संवाददाता सम्मेलन में भाजपा के पिंपरी चिंचवड़ शहराध्यक्ष और विधायक महेश लांडगे, भाजपा की महिला प्रदेश अध्यक्षा उमा खापरे, महापौर ऊषा ढोरे, मनपा में सत्तादल के नेता नामदेव ढाके, उपमहापौर हीराबाई घुले, शहर भाजपा के प्रवक्ता अमोल थोरात, महासचिव राजू दुर्गे, नगरसेवक एड मोरेश्वर शेडगे, बाबू नायर आदि उपस्थित थे। बहरहाल शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने प्रेस कांफ्रेंस से लौटते वक्त भाजपा नेता किरीट सोमैया को काले झंडे दिखाए और जोरदार नारेबाजी की। हालांकि सोमैया बिना दिक्कत यहां से बाहर निकल गए। शिवसेना की नारेबाजी का जवाब भाजपा कार्यकर्ताओं ने भी नारेबाजी से दिया, इससे कुछ देर तक तनाव की स्थिति बनी रही। हालांकि पुलिस के कड़े बंदोबस्त से कोई अनहोनी नहीं हुई।