Pimpri bjp

    पिंपरी: महाविकास आघाडी के नेताओं पर भ्रष्टाचार के आरोपों की श्रृंखला शुरू किए हुए भाजपा नेता किरीट सोमैया (BJP leader Kirit Somaiya) को शिवसेना (Shiv Sena) द्वारा चुनौती दी जा रही है। इस कड़ी में पिंपरी चिंचवड़ महानगरपालिका (Pimpri Chinchwad Municipal Corporation) में विपक्षी दलों की ओर से अनोखा आंदोलन (Unique Protest)किया गया। इसके तहत स्मार्ट सिटी योजना में 500 करोड़ रुपए के घोटाले जिसमें सत्तादल भाजपा (BJP) के नेताओं की मिलीभगत है, की फाइल प्रतीकात्मक (Symbolic) किरीट सोमैया को सौंपी गई। अब इस मामले में ईडी (ED) से शिकायत करें और दोषी पाए जानेवाले अपने नेताओं को जेल भेजें, यह चुनौती शिवसेना और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) की ओर से दी गई।

    महानगरपालिका मुख्यालय में महापौर कार्यालय के सामने हुए इस आंदोलन में एनसीपी के शहराध्यक्ष संजोग वाघेरे, शिवसेना सहसंपर्क प्रमुख योगेश बाबर, पूर्व विधायक गौतम चाबुकस्वार, शहर प्रमुख एड. सचिन भोसले, शिवसेना की जिला संगठक सुलभा उबाले, राष्ट्रवादी काँग्रेस पार्टी के नगरसेवक अजीत गव्हाणे, शिवसेना गुटनेता राहुल कलाटे, नगरसेवक विक्रांत लांडे, राजेश वाबले, धनंजय आल्हाट, विभाग प्रमुख दीपक कांबले, अनिल पारचा आदि शामिल हुए थे। 

     क्या यह स्मार्ट सिटी का स्मार्ट घोटाला नहीं है

    ‘हिम्मत दिखाओ, हिम्मत दिखाओ, किरीट सोमैया अब हिम्मत दिखाओ’, ‘ भ्रष्टाचारी भाजपा का विजय हो’, जैसे नारों से पूरा गलियारा गूंज उठा। किरीट सोमैया आपने घर में प्रवेश किया है। राज्य के हर नेता से पूछताछ शुरू कर दी गई है। इसके अलावा, हमने पिंपरी-चिंचवड़ महानगरपालिका में भ्रष्टाचार की फाइलें दी गई हैं। शिवसेना की नेता सुलभा उबाले ने मांग की है कि उनसे भी पूछताछ की जानी चाहिए। इस समय शिवसैनिक ने सोमैया के चेहरे पर नकाब लगाया और उसकी आवाज में व्यंग्य करते हुए कहा कि वह दूध और पानी कर देंगे। स्मार्ट सिटी के विकास कार्यों से 10 हजार रुपए का पानी का मीटर 60 हजार रुपए में खरीदा। सलाहकार यह दावा करके धोखा देते हैं कि पैकेज एक मनका है। एक फ़ायरवॉल 66 लाख रुपये में और दूसरा 6 करोड़ रुपये में लिया है। क्या यह स्मार्ट सिटी का स्मार्ट घोटाला नहीं है?  किरीट सोमैया महाविकास आघाडी के नेताओं पर आरोप लगा रहे हैं। वे सरकार को गिराने की कोशिश कर रहे हैं।