Fraud
Representational Pic

    पुणे: ऑनलाइन डेटिंग (Online Dating) के जरिए लोगों के साथ धोखाधड़ी (Fraud) के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं। आईटी नगरी पुणे (Pune) और पिंपरी-चिंचवड (Pimpri-Chinchwad) में इस तरह की शिकायतें (Complaints) आई हैं। पिछले 10 महीने में पुणे में 119 लोगों के साथ ठगी की जा चुकी है। मौजूदा समय में हर महीने कम से कम 8 से 10 लोग डेटिंग एप्स (Dating Apps) और वेबसाइट के शिकार हो रहे हैं।

    पुणे शहर में जनवरी से अक्टूबर 2021 के बीच डेटिंग की आड़ में नागरिकों को ठगने की 100 से अधिक शिकायतें साइबर पुलिस में दर्ज कराई गई हैं। केवल आर्थिक लूटपाट के ध्येय से मार्च में डेटिंग एप के जरिए एक परिचित के जरिए युवक की हत्या कर दी गई थी।

    बदनामी के डर से शिकायत दर्ज कराने के लिए आगे नहीं आ रहे लोग

    देश और विदेश के नागरिक नौकरी, शिक्षा और विभिन्न रोजगार की तलाश में पुणे चले आते हैं। वे कुछ वर्षों के लिए पुणे में रहते हैं। स्वाभाविक रूप से परिवार से वे दूर रहते हैं। अकेलापन, शारीरिक और मानसिक समस्याओं से ग्रसित लोगों का फायदा अपराधी उठाते हैं। सहयोगी की तलाश में ये लोग ऑनलाइन डेटिंग ऐप्स, फेसबुक और इंस्टाग्राम का इस्तेमाल करते हैं। इसके लिए एक निश्चित रकम भी चुकानी पड़ती है। आमने-सामने मिलने की इच्छा व्यक्त करने के बाद रिश्तेदारों से अक्सर संपर्क टूट जाता है और बस इसी का फायदा उठाकर एप से धोखाधड़ी करते हैं। जब तक सच समझ में आता है तब तक देर हो चुकी होती है। बदनामी के डर से नागरिक शिकायत दर्ज कराने के लिए आगे नहीं आते।शहर में अलग-अलग उम्र के लोग अलग-अलग तरीकों से एस्कॉर्ट सेवाओं की पेशकश करने के लिए ललचाते हैं।  इसके बाद उनसे ऑनलाइन शुल्क लिया जाता है।  उसके सामने वाला व्यक्ति पैसा मिलने के बाद कोई जवाब नहीं देता।  अधिकांश नागरिक इस डर से पुलिस में शिकायत दर्ज कराने से बचते हैं कि इसमें शामिल धोखाधड़ी की मात्रा कम होगी और वे कलंकित हो जाएंगे।

    डेटिंग साइट धोखाधड़ी का एक स्रोत बन गया है। इस तरह की हर महीने कम से कम 8 से 10 शिकायतें प्राप्त होती हैं। वित्तीय धोखाधड़ी के साथ ही अन्य प्रकार की धोखाधड़ी भी होती हैं। इसलिए नागरिकों को वित्तीय लेन-देन करते समय सावधान रहना चाहिए।

    -डी. एस. हेक, वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक, साइबर पुलिस

    शिकायत के लिए संपर्क करें

    इस तरह की वित्तीय धोखाधड़ी या रोकथाम के मामले के संबंध में यहां संपर्क करें -साइबर पुलिस व्हाट्सएप नंबर – 7058719371, 7058719375 साइबर पुलिस स्टेशन- 020-29710097 ई-मेल-crimecyber.pune@nic.in

    इन विकृतियों को होना पड़ता है शिकार

    • व्यक्तिगत और गोपनीय जानकारी लेकर वित्तीय धोखाधड़ी।
    • वीडियो, फोटोग्राफ का उपयोग कर ब्लैकमेल करना।
    • आमने-सामने मुलाकात के लिए बुलाकर अपहरण और मारपीट करना।
    • जानकारी का दुरूपयोग हो सकता है।

    इससे बचें 

    व्यक्तिगत, गोपनीय जानकारी दूसरों से साझा न करें।

    डेटिंग के समय मौजूदा तकनीकों से परिचित हों।

    सुनसान वाली जगह पर मिलने से बचें।