विज्ञापन बोर्डों से पिंपरी-चिंचवड़ महानगरपालिका को हुई 12.58 करोड़ रुपए की आय

    पिंपरी: पिंपरी-चिंचवड़ महानगरपालिका (Pimpri-Chinchwad Municipal Corporation) के स्काई साइन लाइसेंसिंग विभाग (Sky Sign Licensing Department) की आय (Income) में इजाफा हुआ है। वित्तीय वर्ष 2021-22 में स्काई लाइसेंसिंग विभाग ने 12 करोड़ 58 लाख रुपए का राजस्व (Revenue) एकत्र किया है। बिना कोई नया लाइसेंस जारी किए केवल पुराने लाइसेंसधारियों से बकाया (Outstanding) और जुर्माने (Fine) की वसूली की गई है। पिछले दस साल में इस विभाग को मिली यह आय सबसे ज्यादा है।

    शहर के अलग-अलग हिस्सों में होर्डिंग लगाकर विज्ञापन दिया जाता है। इसके लिए स्काई साइन लाइसेंसिंग विभाग काम कर रहा है और यह पिंपरी-चिंचवड़ महानगरपालिका के लिए आय का एक जरिया है। कुछ विज्ञापनदाता और निजी जमींदार एक ही होर्डिंग लाइसेंस पर कई होर्डिंग लगाकर पैसा कमाते हैं। इससे शहर की सुंदरता खराब होती है और महानगरपालिका का राजस्व भी डूबता है। कुछ ने लाइसेंस शुल्क का भुगतान नहीं किया तो कुछ ने जमीन का किराया नहीं दिया। नतीजतन, राजस्व कम हो जाता है।

    पिछले दस साल में आय का सबसे ज्यादा आंकड़ा

    हालांकि विभाग ने इस साल अनाधिकृत फ्लेक्स और होर्डिंग लगाने वालों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए जुर्माना वसूल किया है। इसके साथ ही बकाया वसूल किया गया। इसलिए 1 अप्रैल 2021 से 31 मार्च 2022 तक 12 करोड़ 58 लाख रुपए का राजस्व प्राप्त हुआ है। यह पिछले दस साल में आय का सबसे ज्यादा आंकड़ा है। शहर की हर गली और चौक पर होर्डिंग और फ्लेक्स लगे हैं। अनधिकृत की संख्या अधिकारी से अधिक है। कई शहर को विकृत कर अरबों कमा रहे हैं।  महानगरपालिका का करोड़ों का राजस्व डूब रहा है। इस साल थोड़ी राहत मिली है।

    पिछले पांच वर्षों की आय

    स्काई साइन विभाग का राजस्व पिछले पांच वर्षों में तीन गुना हो गया है। इसमें 2017-18 में 3 करोड़ 79 लाख, 2018-19 में 3 करोड़ 98 लाख, 2019-20 में 6 करोड़ 11 लाख, 2020-21 में 4 करोड़ 20 लाख और 2021-22 में 12 करोड़ 50 लाख शामिल हैं। कोरोना महामारी के कारण आय में गिरावट आई थी। हालांकि वित्तीय वर्ष 2021-22 में स्काई साइन विभाग को मामूली आमदनी हुई है। स्काई साइन लाइसेंसिंग के सहायक आयुक्त नीलेश देशमुख ने कहा कि राजस्व बढ़ाने के प्रयास किए जा रहे हैं। विज्ञापन उपकरण और संरचना का निर्धारण करने के लिए विज्ञापनदाताओं और विज्ञापनदाताओं के प्रारूप और समग्र नीति पर निर्णय लेने के लिए एक बाहरी विज्ञापन नीति समिति का गठन किया गया है। वित्तीय वर्ष 2021-22 में लक्ष्य 11 करोड़ रुपए का था, जबकि राजस्व 12.5 करोड़ रुपए मिला है।

    आय में आगे, कार्रवाई में पीछे

    पिंपरी-चिंचवड़ शहर में वर्तमान में 2,141 बड़े होर्डिंग हैं। महानगरपालिका के खजाने में लाइसेंसिंग बोर्ड के माध्यम से आय जमा की जा रही है। हालांकि 27 लाख की आबादी वाले शहर में सिर्फ 2,141 होर्डिंग ही आधिकारिक हैं। शहर में बड़ी संख्या में अनधिकृत होर्डिंग होने की संभावना है। पिछले एक साल में केवल 118 बिल बोर्ड संसोधित किए गए हैं। स्काई साइन लाइसेंसिंग विभाग के राजस्व में हर साल बढ़ोतरी होती दिख रही है, लेकिन विभाग अनाधिकृत होर्डिंग पर नकेल कसने में पिछड़ रहा है। शहर में वर्तमान में 2,141 बड़े होर्डिंग हैं। इसके अलावा अ क्षेत्रीय कार्यालय में 377, ब में 67, क में 27, ड में 27, ई में 12, फ में 160 और ग क्षेत्रीय कार्यालय में 35 आवेदन हैं। इस आवेदनों पर अभी कोई फैसला नहीं हुआ है।