murlidhar-mohol

  • महापौर मुरलीधर मोहोल और अतिरिक्त आयुक्त की अपील

पुणे. कोरोना वायरस (Corona Virus) के नए स्ट्रेन (New Strains) ने इंग्लैंड (England) में कोहराम मचा दिया है।  नए वायरस को पहले से ज्यादा खतरनाक (Dangerous) बताया गया है। इंग्लैंड से पुणे (Pune) आने वाले यात्रियों में से 3 को कोरोना पॉजिटिव (Corona Positive) पाया गया है। मरीजों को नायडू अस्पताल (Naidu Hospital) में भर्ती कराया गया है और उनका इलाज चल रहा है, लेकिन अभी तक उनके स्ट्रेन की जानकारी नहीं मिली है। महानगरपालिका द्वारा उनका जीनोम सीक्वेंस जांचा जा रहा है। उसके लिए 12-15 दिन लगेंगे। 

साथ ही चेन्नई के मरीज का स्वैब पुणे में लिए था। जो पॉजिटिव आया। वह पुणे का नहीं था। इसलिए पुणेवासियों ने घबराने की जरुरत नहीं है। सिर्फ सतर्क रहकर नया साल का स्वागत घर पर रहकर करें। ऐसी अपील महापौर मुरलीधर मोहोल और महापालिका अतिरिक्त आयुक्त रूबल अग्रवाल द्वारा की गई है। 

ब्रिटेन से आनेवाले लोगों को किया जा रहा है ट्रेस 

दूसरी ओर, इंग्लैंड से साथ ही दुबई से पुणे लौटने वाले यात्रियों की संख्या 900 तक पहुंच गई है। महापालिका प्रशासन द्वारा उन्हें ट्रेस किया जा रहा है।  हालांकि, यह चिंता का विषय है कि चौंकाने वाली जानकारी सामने आ रही है कि उनमें से 106 का पता नहीं चल पाया है। महानगरपालिका के स्वास्थ्य विभाग ने 106 यात्रियों की जांच के लिए पुलिस की मदद ली है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा पत्र पुलिस को सौंप दिया गया है। इसमें पुलिस भी महापालिका प्रशासन को मदद कर रही है। 

डॉ नायडू अस्पताल में 50 बेड्स का स्पेशल वार्ड 

अतिरिक्त आयुक्त रूबल अग्रवाल ने कहा कि ब्रिटेन साथ ही दुबई से आनेवाले लोगों को स्वास्थ्य विभाग द्वारा ट्रेस कर जांच की जा रही है। उनके लिए महानगरपालिका के डॉ। नायडू अस्पताल 50 बेड्स का स्पेशल वार्ड बनाया गया है। उसमें उनका उपचार किया जाएगा। अग्रवाल के अनुसार, हाल ही में 3 लोग पॉजिटिव पाए गए है। उनका इलाज चल रहा है, लेकिन अभी तक उनके स्ट्रेन की जानकारी नहीं मिली है। महानगरपालिका द्वारा उनका जीनोम सीक्वेंस जांचा जा रहा है। उसके लिए 12-15 दिन लगेंगे। साथ ही चेन्नई (Chennai) के मरीज का स्वैब पुणे में लिए था। जो पॉजिटिव आया। वह पुणे का नहीं था। इसलिए पुणेवासियों ने घबराने की जरुरत नहीं है। 

इंग्लैंड से पुणे आने वाले यात्रियों में से 3 को कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। मरीजों को नायडू अस्पताल में भर्ती कराया गया है और उनका इलाज चल रहा है, लेकिन अभी तक उनके स्ट्रेन की जानकारी नहीं मिली है। महापालिका द्वारा उनका जीनोम सीक्वेंस जांचा जा रहा है। उसके लिए 12-15 दिन लगेंगे। साथ ही चेन्नई के मरीज का स्वैब पुणे में लिए था। जो पॉजिटिव आया। वह पुणे का नहीं था। इसलिए पुणेवासियों ने घबराने की जरुरत नहीं है। सिर्फ सतर्क रहकर नया साल का स्वागत घर पर रहकर करें।

-रूबल अग्रवाल, अतिरिक्त आयुक्त, महापालिका

नए स्ट्रेन को लेकर लोगों ने घबराने की कोई जरुरत नहीं है क्योंकि पुणे या राज्य में ऐसा कोई मरीज नहीं मिला है। चेन्नई के मरीज का पुणे में स्वैब लिया था, लेकिन वह पुणे का नहीं है। महानगरपालिका द्वारा सभी उपाय योजनाएं की जा रही है। नए साल का स्वागत करते समय हमें सतर्क रहना है। पिछले 8-10 महीनों से पुणेकरों ने हमें खासा सहयोग दिया है। अब भी नागरिक हमें मदद करेंगे। साथ ही इस संकट का हम मिलकर सामना करेंगे।

- मुरलीधर मोहोल, महापौर