(प्रतीकात्मक तस्वीर)
(प्रतीकात्मक तस्वीर)

    पिंपरी: कोरोना (Corona) के नए ओमीक्रोन वायरस (Omicron Virus) के खिलाफ सबसे बड़ा बचाव है कोरोना वैक्सीन (Vaccine) । कोरोना प्रिवेंशन कोविशील्ड वैक्सीन की पहली डोज लेकर पिंपरी-चिंचवड़ शहर के 1 लाख 99 हजार नागरिकों ने 84 दिन पूरे कर लिए हैं। ये नागरिक दूसरी खुराक लेने के पात्र हैं और उन्हें दूसरी खुराक लेनी चाहिए, यह अपील प्रशासन ने की है। पिंपरी-चिंचवड़ महानगरपालिका (Pimpri-Chinchwad Municipal Corporation) के चिकित्सा विभाग (Medical Department) ने यह भी कहा कि महानगरपालिका के पास बड़ी मात्रा में टीके (Vaccines ) उपलब्ध हैं।

    महानगरपालिका ने 26 लाख 86 हजार से ज्यादा कोरोना वैक्सीन की डोज दी है। इसमें पहली खुराक लेने वाले नागरिकों की संख्या 88 और दूसरी खुराक लेने वाले नागरिकों की संख्या 64 फीसदी है। अगर पुणे में टीका लगवानेवाले शहरवासियों की संख्या को भी इसमें शामिल कर लिया जाए तो वैक्सीन की दूसरी खुराक लेने वालों का अनुपात 70 फीसदी हो जाएगा। 18 से 45 वर्ष के बीच के 100 प्रतिशत नागरिकों ने पहली खुराक ली है, जबकि, 70 फीसदी लोगों ने दूसरी खुराक ली। 45-60 आयु वर्ग में 72 फीसदी लोगों ने पहली खुराक ली और 56 फीसदी लोगों ने दूसरी खुराक ली। 60 वर्ष से पहले के लगभग 60 प्रतिशत नागरिकों ने पहली खुराक ली है और 52 प्रतिशत ने दूसरी खुराक ली है। 15 लाख 57 हजार 513 जैसे 88 लाख नागरिकों ने पहली खुराक ली है। वहीं, 11 लाख 29 हजार 339 ऐसे 64 फीसदी नागरिकों ने दूसरी खुराक ली है। 

    26 लाख 86 हजार 852 नागरिकों का टीकाकरण किया जा चुका 

    महानगरपालिका कमिश्नर राजेश पाटिल ने बताया कि शहर के 26 लाख 86 हजार 852 नागरिकों का टीकाकरण किया जा चुका है। कोरोना प्रिवेंशन कोविशील्ड वैक्सीन की पहली डोज लेकर शहर के 1 लाख 99 हजार नागरिकों ने 84 दिन पूरे कर लिए हैं।  ये नागरिक दूसरी खुराक लेने के पात्र हैं और उन्हें दूसरी खुराक जल्दी लेनी चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि महानगरपालिका के पास बड़ी मात्रा में टीके उपलब्ध हैं।

    कुछ खुराक छात्रों और विदेश यात्रा करने वाले नागरिकों के लिए आरक्षित

    कमिश्नर राजेश पाटिल ने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई के लिए नागरिकों की प्रतिरोध शक्ति महत्वपूर्ण है। इसलिए केंद्र सरकार के निर्देशानुसार महानगरपालिका ने 16 जनवरी से शहर में कोरोना के खिलाफ टीकाकरण शुरू कर दिया है। प्रारंभ में, प्री-लाइन श्रमिकों और स्वास्थ्य देखभाल कर्मचारियों को टीका लगाया गया था। इसके बाद चरणों में और टीकों की उपलब्धता के अनुसार प्राथमिकताएं तय की गईं। इसका उद्देश्य 60 वर्ष से अधिक और 45 वर्ष से अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिकों का टीकाकरण करना है। वर्तमान में 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों का टीकाकरण किया जा रहा है। उसमें भी वरिष्ठ नागरिकों, विकलांगों और तीसरे पक्ष को प्राथमिकता दी जाती है। कुछ खुराक छात्रों और विदेश यात्रा करने वाले नागरिकों के लिए आरक्षित हैं। इसके अलावा, कुछ खुराक गर्भवती और स्तनपान कराने वाली माताओं के लिए आरक्षित हैं।  निगम के आठ क्षेत्रीय कार्यालय स्तर पर आठ केंद्रों पर प्रतिदिन इनके लिए टीकाकरण की व्यवस्था की गई है। नगर निगम केंद्रों पर कोविशील्ड और कोवासिन के टीके लगवाए जा रहे हैं। स्पुतनिक वी का टीका इन दोनों टीकों के साथ निजी केंद्रों पर भी उपलब्ध है। हालांकि महानगरपालिका द्वारा नि:शुल्क टीके उपलब्ध कराए जा रहे हैं और निजी केंद्रों पर शुल्क वसूला जा रहा है। कुछ आउट-ऑफ-टाउनर्स ने शहर में और कुछ शहरवासियों ने शहर के बाहर सेंटर में टीका लगाया गया है।