Retired ACP of Mumbai Police Shamsher Khan Pathan claims Parambir Singh had taken the phone seized from terrorist Ajmal Kasab during 26/11 Attacks, Demands enquiry
Photo:ANI

    मुंबई: मुंबई (Mumbai) के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह (Former Mumbai Police Commissioner Param Bir Singh) पर मुंबई पुलिस के रिटायर्ड एसीपी ने बड़ा आरोप लगाया है। रिटायर्ड एसीपी शमशेर खान पठान (Retd. ACP Shamsher Khan Pathan) ने खुलासा किया है कि, मुंबई 26/11 हमलों (Mumbai 26/11 Attacks) के दौरान ज़िंदा पकडे गए आतंकी अजमल कसाब (Ajmal Amir Kasab) के पास से एक फोन भी ज़ब्त किया गया था जो कतिथ तौर पर परमबीर सिंह ने पास तब अपने कब्ज़े में ले लिया था। पठान ने इस मामले को लेकर जुलाई 2021 में मुंबई पुलिस कमिश्नर को एक खत भी लिखा था। 

    एएनआई के अनुसार, जुलाई 2021 में मुंबई पुलिस आयुक्त को लिखे एक पत्र में सेवानिवृत्त एसीपी शमशेर के पठान ने आरोप लगाया कि 26/11 के आतंकवादी हमलों के दौरान, तत्कालीन डीआईजी एटीएस परमबीर सिंह ने आतंकवादी अजमल कसाब के फोन को जब्त कर लिया था, फोन कभी भी जांच या परीक्षण के दौरान पेश नहीं किया गया।

    एएनआई ने बताया कि, मैंने इस साल जुलाई में इस संबंध में एक पत्र लिखा था। उन्हें (परम बीर सिंह) सबूतों को नष्ट करने के आरोप में एनआईए द्वारा गिरफ्तार किया जाना चाहिए। उन्होंने इस बरामद सबूत को आईएसआईएस को बेच दिया होगा या फिर जबरन वसूली के लिए जानकारी का इस्तेमाल किया होगा। 

    बता दें कि, परमबीर सिंह मुंबई में पहले ही जांच का सामना कर रहे हैं। उनके ऊपर मुंबई में जबरन वसूली और रंगदारी जैसे आरोपों के तहत मामला दर्ज है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद परमबीर सिंह गुरुवार को मुंबई क्राइम ब्रांच पहुंचे थे। अधिकारियों ने रंगदारी के एक मामले में उनका बयान दर्ज किया है। 

    इससे पहले दरअसल कोर्ट (Court) ने जबरन वसूली के एक मामले (Extortion Case) में आईपीएस अधिकारी परमबीर सिंह (Param Bir Singh) को भगोड़ा घोषित किया है। पूर्व कमिश्नर सिंह के खिलाफ कोर्ट ने तीसरा गैर-जमानती वारंट जारी किया था। 

    अपने लेटर में पठान ने दावा किया है कि, कसाब से ज़ब्त किया गया फोन सिंह ने अपने कब्ज़े में ले लिया था। उन्होंने बताय है कि, 26/11 अटैक के दौरान पठान दक्षिण मुंबई के पायधुनी पुलिस थाने में कार्यरत थे। उन्होंने दावा किया है कि, कुछ अधिकारीयों को इसकी जानकारी थी कि, सिंह के पास वह फोन मौजूद है लेकिन बावजूद इसके फोन को उनसे नहीं लिया गया। पठान ने इस पुरे मामले में जांच की मांग की है।