saamana-editorial-on-chhatrapati-shivaji-maharaj-eknath-shinde-devendra-fadnavis-radhakrishna-vikhe-patil-bjp-shivsena

saamana-editorial-on-chhatrapati-shivaji-maharaj-eknath-shinde-devendra-fadnavis-radhakrishna-vikhe-patil-bjp-shivsena

    मुंबई: महाराष्ट्र (Maharashtra) में पिछले कई दिनों से राजनीतिक उथल पुथल चल रही है। राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) और बीजेपी (BJP) के खुश नेताओं ने छत्रपति शिवाजी महाराज (Chhatrapati Shivaji Maharaj) का अपमान किया था। आज शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ के जरिए इसी मुद्दे को लेकर सरकार पर निशाना साधा गया है। सामना (Saamana) में कहा गया है, “महाराष्ट्र के राज्यपाल से लेकर मंत्रियों तक, हर कोई खुद को महामहोपाध्याय या शिवशाहीर के रूप में ढोल पीट रहा है, लेकिन इसे ढोंग ही कहना होगा।”

    शिवसेना (Shiv Sena) ने सामना (Saamana) के माध्यम से बीजेपी पर निशाना साधते हुए लिखा, “विखे पाटिल कभी मर्दमराठे मावले के रूप में शिव राय के भक्त थे। आज बीजेपी में जाकर शिव राय का अपमान करने वाले राज्यपाल की तारीफ करनी पड़ रही है। इससे यह विचार झकझोर देता है कि यह वीर मराठों का देश है। कुल मिलाकर भाजपा का शिवप्रेम का ढोंग हर दिन बेनकाब होता जा रहा है। तो छत्रपति उदयनराजे जो कहते हैं वह सच है, ‘छत्रपति शिवाजी का अपमान करने वाले सत्ता में कैसे रह सकते हैं?’ यह बेशर्मी है!”

    सामना (Saamana) में आगे लिखा है कि, गुजरात में विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार शुरू है। इस दौरान कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने मोदी की तुलना सौ मुंह वाले रावण से की। इसके बाद मोदी और बीजेपी के लोगों ने कांग्रेस और खड़गे पर पलटवार शुरू कर दिया। जनसभाओं में कहा जा रहा है कि मोदी की तुलना रावण से करना गुजरात और गुजरात के बेटे का अपमान है। मोदी ने कहा कि, गुजरात के लोगों को मोदी के अपमान का बदला लेना चाहिए। प्रधानमंत्री का अपमान करना गलत है। लेकिन अगर मोदी को रावण कहना गुजराती अस्मिता का अपमान है तो हम क्या कहें अगर बीजेपी छत्रपति शिवाजी का अपमान करने वालों का समर्थन और बचाव करती है? बीजेपी का कहना है कि मोदी का अपमान करना गुजरात का अपमान है, लेकिन छत्रपति का अपमान करना महाराष्ट्र का अपमान नहीं है?