Sanjay Raut took a jibe at BJP on the opposition to wine policy in Maharashtra, said- BJP does nothing for the farmers
File Photo

    मुंबई: महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) ने गुरुवार को बड़ा फैसला लिया है। राज्य की कैबिनेट (Cabinet) ने महाराष्ट्र के किराना स्टोर (Grocery Stores) और सुपरमार्केट (Supermarkets) में वाइन (Wine) को बेचने की अनुमति देने का फैसला किया है। गुरुवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Chief Minister Uddhav Thackeray) की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक (Cabinet Meeting) में यह निर्णय लिया गया। जिसके बाद बीजेपी ने फैसले का विरोध किया है जिस पर शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने बीजेपी पर तंज कस्ते हुए उनके विरोध का जवाब दिया है।   

    शिवसेना नेता संजय राउत ने सुपरमार्केट और वॉक-इन स्टोर में शराब की बिक्री की अनुमति देने के सरकार के फैसले पर कहा है कि, वाइन शराब नहीं है। अगर वाइन की बिक्री बढ़ती है तो किसानों को इसका लाभ मिलेगा। हमने किसानों की आय को दोगुना करने के लिए ऐसा किया है। भाजपा केवल विरोध करती है लेकिन किसानों के लिए कुछ नहीं करती है। 

    इससे पहले गुरुवार को सरकार के फैसले पर बात करते हुए कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक (Nawab Malik) ने कहा था कि, यह प्रस्ताव पहले से विचाराधीन था। मलिक ने कहा कि, अब 1000 वर्ग फुट की छोटी दुकानों में भी वाइन बेचने की अनुमति होगी। महाराष्ट्र में काफी संख्या में किसानों की आमदनी फल उत्पादों से बने वाइन पर निर्भर करती है। ऐसे में इस फैसले से किसानों की आमदनी में इज़ाफा होगा।

    इस मामले में महाराष्ट्र पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता देवेन्द्र फडणवीस ने गुरुवार को चेतावनी देते हुए कहा कि, इस तरह के कदम को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, पिछले दो सालों में राज्य सरकार ने किसी भी किसान, गरीब, बेसहारा की मदद नहीं की है। सरकार की प्राथमिकता सिर्फ और सिर्फ शराब है। सरकार को कम से कम गरीबों की थोड़ी मदद करनी चाहिए। पेट्रोल-डीजल से सस्ती हुई शराब! प्रतिबंध हटने के बाद शराब बेचने की अनुमति! महाराष्ट्र में शराब के नए लाइसेंस जारी करने का फैसला! और अब सुपरमार्केट, किराना स्टोर से लाइव शराब! महाराष्ट्र यह सब बर्दाश्त नहीं करेगा।

    एक रिपोर्ट के अनुसार, महाराष्ट्र सरकार इस फैसले के बाद राज्य में जल्द ही नई वाइन नीति लागू करने की उम्मीद है। इसके बाद अगले साल में वाइन प्रोडक्शन को 1,000 करोड़ लीटर तक बढ़ाने का लक्ष्य है।