ST Strike

    ठाणे : एसटी (ST) के कर्मचारी (Employees) अपने विभिन्न मांगों (Demands) को लेकर पिछले कुछ दिनों से हड़ताल (Strike) पर हैं, लेकिन ठाणे जिले (Thane District) में सोमवार से बंद का असर दिखाई दे रहा है क्योंकि जिले के सभी आठ डिपो से एक भी बस सड़क पर नहीं दौड़ी। परिणामस्वरूप, यात्रियों के आवागमन पर इसका असर पड़ा है और लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। वहीं सोमवर को 100 फीसदी बंद सफल रहा और एसटी विभाग (ST Department) के अनुसार, 3200 कर्मचारियों में से 2700 कर्मचारियों ने हड़ताल में भाग लिया। वहीं इस बंद को अब भाजपा (BJP) और मनसे (MNS) का समर्थन मिल गया है। जिससे आने वाले दिनों में स्थिति और बदतर होने की संभावना जताई जा रही है। 

    हालांकि एसटी कार्यकर्ताओं द्वारा बुलाए गए इस हड़ताल को अभी तक राज्य सरकार की ओर से सकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं मिली है। नतीजतन, एसटी कार्यकर्ता अब धीरे-धीरे शत-प्रतिशत हड़ताल में शामिल हो गए हैं। ठाणे में रविवार से डिपो-1 और डिपो-2 से कोई बस नहीं निकली है। रविवार दोपहर विट्ठलवाड़ी डिपो के कर्मचारियों ने हड़ताल शुरू कर दी। उसके बाद से रविवार की आधी रात से ही जिले के सभी आठ डिपो के कर्मचारी शत-प्रतिशत बंद का शस्त्र उठा चुके हैं। 

    एक भी बस सड़क पर नहीं आई

    इस बंद के चलते जिले के आठ डिपो की 490 बसों में से एक भी बस सड़क पर नहीं चली। इस हड़ताल में 3200 एसटी श्रमिकों में से 2700 ने भाग लिया है। चूंकि शेष 10 प्रतिशत कर्मचारी कार्यालय में थे, इसलिए यह पाया गया कि उन्होंने हड़ताल में भाग नहीं लिया। 

    डेढ़ दिन में हुआ 11 लाख रूपए का नुकसान 

    इस बीच, दीपावली की छुट्टी होने के कारण कई यात्री अपने गांव के लिए निकल पड़े थे, लेकिन सोमवार को यात्रियों को मायूसी हाथ लगी। यात्रियों को लगा कि बस जल्दी आ जाएगी। इतने सारे यात्री खोपट और वंदना डिपो पर बस का इंतजार करते देखे गए। लेकिन बस नहीं आते देख कुछ ने वापसी का रास्ता अपनाया, जबकि अन्य ने निजी बस से अपने गांव पहुंचने की कोशिश करते नजर आए। एसटी कार्यकर्ताओं द्वारा बुलाए गए इस हड़ताल से डेढ़ दिन में 11 लाख रुपए का नुकसान हुआ है।

    वर्कशॉप के कर्मचारियों ने भी किया काम बंद

    ठाणे एसटी की कलवा में वर्कशॉप है। इस कार्यशाला में 165 श्रमिक कार्यरत हैं, लेकिन वर्कशॉप के 159 कर्मचारियों ने कर्मचारियों द्वारा बुलाए गए इस हड़ताल में भाग लिया है। उन्होंने वर्कशॉप के गेट पर काम बंद कर आंदोलन भी किया। 

    भाजपा के बाद मनसे ने भी किया बंद का समर्थन

    एक दिन पहले भाजपा ने एसटी के इस बंद का समर्थन करते हुए विधायक संजय केलकर ने एसटी कर्मचारियों से मुलाकात की थी। अब भाजपा द्वारा एसटी कार्यकर्ताओं की हड़ताल को समर्थन देने का ऐलान के बाद सोमवार को मनसे भी बंद के समर्थन में आंदोलन में शामिल हो गई। खोपट में डिपो के पास मजदूरों द्वारा बुलाए गए इस आंदोलन में मनसे पदाधिकारियों ने हिस्सा लिया था।