Badlapur-Ambernath pending water supply scheme will soon get approval

  • 83 करोड़ रुपए की निधि से जलसंकट को समाप्त करने की कोशिश

अंबरनाथ.  ठाणे जिले के पालकमंत्री एकनाथ शिंदे (Guardian Minister Eknath Shinde) ने यहां कहा कि कुलगांव-बदलापुर शहर (Kulgaon-Badlapur city) की दिनों-दिन बढ़ती हुई जनसंख्या को देखते हुए भविष्य में लोगों को जलापूर्ति (Water Supply) की समस्या का सामना न करना पड़े इसलिए नगरविकास मंत्रालय के माध्यम से वर्षो से प्रलंबित जलापूर्ति योजना को कार्यान्वित किया जा सका इसलिए जल्द ही आवश्यक  83 करोड़ की निधि को मंजूरी दी जाएगी।

महाराष्ट्र जीवन प्राधिकरण (MJP) द्वारा  बदलापुर पूर्व स्थित खरवई गांव में 7.2 मिलियन क्यूबिक क्षमता का जल शुद्धिकरण केंद्र बनाया गया है। हाल ही में ऊक्त प्रकल्प का विधिवत उद्घाटन करने के बाद अपने विचार व्यक्त करते हुए पालकमंत्री शिंदे ने ऊक्त बात कही। शहर की बढ़ती हुई जनसंख्या को देखते हुए बदलापुर के विविध राजनीतिक दलों के साथ ही नगरपालिका के पूर्व अध्यक्ष वामन म्हात्रे द्वारा वर्षों से पानी के लिए विशेष  निधि दिए जाने की मांग कि जा है। राज्य के जलआपूर्ति मंत्री गुलाबराव पाटिल ने भी इस योजना के लिए धन के आवंटन का प्रस्ताव दिया है। उन्होंने जलापूर्ति प्राधिकरण के अधिकारियों को  विस्तृत प्रस्ताव प्रस्तुत करने के भी आदेश है।

एक लाख लोगों को होगा फायदा

उद्घाटन समारोह में पालकमंत्री  एकनाथ शिंदे, राज्य की सफाई और जल आपूर्ति मंत्री गुलाबराव पाटिल मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद थे।  पिछले कई सालों से जल शुध्दिकरण केंद्र का  कार्य चल रहा था। इस माह इस योजना के पूर्ण होने पर मंगलवार से इस जल प्रकल्प परियोजना द्वारा सुचारू रूप से कार्य किया जाने लगा है। इस योजना के तहत बदलापुर के पूर्वी भाग में लगभग 50 किलोमीटर लंबी पाइप लाइन डाली गई है। इस परियोजना से शहर के लगभग एक लाख लोगों को फायदा पहुंचने वाला है।  संज्ञान रहे है कि कुलगांव-बदलापुर नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष वामन महात्रे ने महाराष्ट्र विकास प्राधिकरण की कार्यशैली पर आरोप लगाते हुए, कुलगाँव-बदलापुर की जलसमस्या के समाधान के लिए 83 करोड़ की अमृत योजना की मांग राज्य के जलापूर्ति मंत्री गुलाबराव पाटिल से की थी। उनकी इस मांग को स्वीकृति देते हुए गुलाबराव पाटिल ने इस प्रस्ताव को पूर्ण करने के लिए धन की आपूर्ति की मांग राज्य के नगरविकास मंत्री एकनाथ शिंदे से की थी। मंत्री की मांग को स्वीकार करते हुए 83 करोड़ रुपए की अमृत योजना के लिए धन का आवंटन किया।

पालकमंत्री ने दिया आवश्यक प्रस्ताव जमा करने का आदेश

उन्होंने वर्तमान जीवन प्राधिकरण के अधिकारियों को इस योजना के लिए आवश्यक प्रस्ताव जमा करने का भी आदेश दिया। अंबरनाथ और बदलापुर की बढ़ती हुई जनसंख्या को देखते हुए वर्ष 2048 तक कि जलापूर्ति की समस्या का समाधान इस योजना द्वारा किया जाने का लक्ष्य रखा गया है। इस अवसर पर मंत्री गुलाबराव पाटिल ने कहा कि हमारे पास 46 प्रतिशत कर्मचारी हैं और जल्द ही निजी संस्थानों की मदद से और कर्मचारियों को प्राधिकरण में लिया जाएगा। इस अवसर पर सांसद डॉ. श्रीकांत शिंदे, विधायक रविंद्र आप्टे, विधायक डॉ बालाजी किणीकर, जीवन विकास प्राधिकरण के सचिव राकेश निंबालकर, प्राधिकरण के अन्य सदस्य और शहर के नागरिक उपस्थित थे। गत जुलाई महीने में उल्हासनदी में आने वाली बाढ़ से इस  प्रकल्प में भारी नुकसान हुआ था। प्राधिकरण के कर्मचारियों ने तीन दिनों के काम को मात्र 36 घंटो में निपटा कर इस प्रकल्प को पुनः कार्य करने की दशा में ला दिया था। कर्मचारियों के इस कार्य की जलापूर्ति मंत्री गुलाबराव पाटिल ने मुक्त कंठ से प्रसंशा की।