कल्याण में बीजेपी विधायक रमेश पाटिल ने दिया विवादित और भड़काऊ बयान

    कल्याण : भाजपा विधायक (BJP MLA) रमेश पाटिल (Ramesh Patil) ने कल्याण (Kalyan) में भड़काऊ (Provocative) और विवादित बयान (Controversial Statement) देते हुए कहा कि बिना अनुमति के तोड़े गए मंदिर को गिराने का समय आ गया है। वह गुरुवार को कल्याण के दामोदाचार्य हॉल में भाजपा के मछुआरा प्रकोष्ठ और कोली महासंघ द्वारा आयोजित एक समारोह में यह बात कही। 

    आयोजन के लिए मछुआरों की भीड़ उमड़ी थी। इस कार्यक्रम में विधान परिषद के विधायक और कोली फेडरेशन के अध्यक्ष रमेश पाटिल, विधायक रविंद्र चव्हाण मौजूद थे। दोनों नेताओं ने कहा कि हम मछुआरों के पीछे खड़े हैं।  इस मौके पर विधायक पाटिल ने कल्याण मोहन के मंदिर पर केडीएमसी की कार्रवाई से उपजे विवाद पर बात करते हुए कहा कि समय आ गया है कि मंदिर को बिना अनुमति के गिरा दिया जाए।  कार्यक्रम के बाद विधायक पाटिल ने कहा कि हम मांग करते हैं कि मंदिर पर कार्रवाई करने वाले अधिकारी को सजा दी जाए और कहा कि वह इस संबंध में महानगरपालिका कमिश्नर से मिलेंगे।

    कुछ मछली विक्रेताओं को लाइसेंस सौंपे गए

    कल्याण डोंबिवली नगर निगम ने कल्याण डोंबिवली महानगरपालिका क्षेत्र में मछुआरों को लाइसेंस वितरित करना शुरू कर दिया है।  भाजपा मछुआरा प्रकोष्ठ महाराष्ट्र के प्रदेश अध्यक्ष चेतन पाटिल और विधायक रमेश पाटिल ने एक साल पहले केडीएमसी कमिश्नर से मुलाकात की थी।  उनके प्रयास आखिरकार सफल रहे हैं और कल्याण डोंबिवली में 750 से अधिक मछुआरों को लाइसेंस जारी किए जाएंगे। गुरुवार को भाजपा विधायक रवींद्र चव्हाण और रमेश पाटिल की ओर से कुछ मछली विक्रेताओं को लाइसेंस सौंपे गए।