vaccine
File Photo

    ठाणे. ठाणे महानगरपालिका (Thane Municipal Corporation) के स्वास्थ्य विभाग (Health Department) ने टीकाकरण मुहिम (Vaccination Campaign) में वरिष्ठ नागरिक को कोरोना का टीका लगाए बिना ही प्रमाण पत्र (Certificate) जारी करने का कारनामा किया है। महानगरपालिका के स्वास्थ्य विभाग द्वारा बरती गई इस लापरवाही के सामने आने का बाद प्रशासन की किरकिरी शुरू हो गई है।  ठाणे महानगरपालिका के एक टीकाकरण सेंटर में पूछताछ के लिए वरिष्ठ नागरिक गया हुआ था। पूछताछ करने के बाद जब वह घर पहुंचा तो उसके मोबाइल पर संदेश आता है कि उनका टीकाकरण किया जा चुका है। इतना ही नहीं टीकाकरण किए जाने का प्रमाण पत्र भी भेज दिया जाता है। इसके बाद वरिष्ठ नागरिक ने अपने बेटे की मदद से ठाणे मनपा में शिकायत दर्ज कराई है। 

    इस वरिष्ठ नागरिक का नाम सुधाकर रत्नाकर है। उन्होंने बताया कि जब वे टीकाकरण के बारे में पूछताछ के लिए वैक्सीनेशन सेंटर पर गए तो उनसे आधार कार्ड मांगा गया और टीका लगवाने का आग्रह किया गया। हालांकि टीकाकरण से इंकार कर दिया। हालांकि उन्होंने टीकाकरण का प्रमाण पत्र मिलने के बाद मनपा में शिकायत दर्ज कराई है। 64 वर्षीय सुधाकर रत्नाकर ठाणे के सावरकर नगर में रहते हैं। वह ठाणे मनपा के वाडिया अस्पताल टेंभी नाका में टीकाकरण के लिए गए थे। उन्होंने अस्पताल में दिए जाने वाले टीकों के बारे में जानकारी ली। उस समय डॉक्टरों ने उनसे आधार कार्ड, पैन कार्ड के बारे में जानकारी ली। बुजुर्ग ने साथ लाए मोबाइल में दोनों पहचान पत्रों की फोटो को दिखा दिया। इसके बाद डॉक्टरों ने उनसे केंद्र में जाकर टीका लगवाने के लिए कहा। हालांकि जब उन्होंने टीका लेने से इंकार कर दिया तो उन्हें 500 रुपए का जुर्माना लगाने का भय दिखाया गया। सुधाकर ने दावा किया कि उसके बाद भी वहां के डॉक्टरों ने टीका लगवाने पर जोर दिया, लेकिन इसके बाद भी उन्होंने कहा कि वे केवल टीका लगवाने नहीं, बल्कि पूछताछ करने आए हैं। 

    बेटे ने स्वास्थ्य विभाग में शिकायत दर्ज कराई

    सुधाकर ने आखिरकार वहां से घर लौटने का फैसला किया। हालांकि शाम को उनके मोबाइल पर मैसेज आया कि उन्हें टीका लग गया है और एक सर्टिफिकेट भी जारी कर दिया गया। सुधाकर के बेटे प्रसाद करवी ने स्वास्थ्य विभाग में शिकायत दर्ज कराई है। उन्होंने इस तरह की जानकारी मनसे नेता संदीप पचांगे को भी दी। 

    मामले की जांच की मांग

    इस मामले में मनपा के स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. वजयंती देवगीकर से संपर्क करने पर उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि संबंधित वरिष्ठ नागरिक का टीकाकरण किया जाएगा। हालांकि पाचंगे ने मामले की गहन जांच की मांग की है।