thane Police Commissioner Jaijeet Singh

    ठाणे : ठाणे पुलिस ने साइबर अपराधों की बढ़ती संख्या को देखते हुए अब अपराधियों पर अंकुश लगाने का निर्णय लिया है। जिसके लिए पुलिस अत्याधुनिक तकनीक का सहारा लेने वाली है।   

    ठाणे पुलिस कमिश्नर (Thane Police Commissioner) जयजीत सिंह (Jaijeet Singh) ने साइबर सेल के स्टाफ को ट्रेनिंग देकर उन्हें अत्याधुनिक तकनीकी से रूबरू कराने पर जोर दिया है। कमिश्नर के मुताबिक आजकल साइबर अपराधी एक से एक नई तकनीकी का उपयोग कर लोगों को झांसा देकर ठगते हैं। उसने अपने मनचाहे बैंक खाते में रूपये ट्रांसफर करा लेते है या उनके बैंक खाते से रूपये उड़ा लेते हैं। व्हाट्सएप, फेसबुक इत्यादि माध्यमों से दोस्ती कर विदेशों में नौकरी दिलाने, महंगे गिफ्ट देने, विवाह करने इत्यादि बहाने से लोगो को ठगते हैं। 

    पुलिस को भी अपडेट रहने की जरूरत

    लोगों को जब तक ठगी का एहसास होता है तब तक देर हो चुकी होती है। ये अपराधी जल्द पकड़ में नहीं आते हैं।  इसलिए ऐसे चालाक अपराधियों से निपटने, उन पर लगाम लगाने और उनकी धरपकड़ के लिए पुलिस को उनसे एक कदम आगे रहने की जरूरत है। जयजीत सिंह ने बताया कि तकनीकी प्रतिदिन अपडेट होते रहती है ऐसे में पुलिस को भी अपडेट रहने की जरूरत है।

    साइबर अपराध में कमी हो सकती है

    इसी को देखते उनकी तरफ से अधिकारीयों और कर्मचारियों को अलग अलग तरीके से ट्रेनिंग देने पर जोर दिया जा रहा है। साइबर  सेल के स्टाफ को बढ़ाने की बात पर सिंह का कहना है कि क्वांटिटी की अपेक्षा क्वालिटी पर उनका जोर है। जो स्टाफ है उन्हें अच्छी ट्रेनिंग मिलेगी वे नई- नई तकनीक को जानेंगे तो उसका फायदा अपराध को सुलझाने में होगा और अपराधियों तक पहुंचने में आसानी होगी।  सिंह ने साइबर अपराध को रोकने की दिशा में लोगों को भी सचेत और सावधान होने की बात कही है इससे साइबर अपराध में कमी हो सकती है।