maharashtra police
File Photo

Loading

ठाणे/मुंबई. महाराष्ट्र राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एमएससीपीसीआर) ने चोरी के आरोप में पकड़े गए पांच नाबालिगों की मुंबई में शिवाजीनगर पुलिस द्वारा कथित तौर पर पिटाई के आरोपी पुलिसकर्मियों को निलंबित करने का अधिकारियों को निर्देश दिया है। पीड़ित बच्चों के अभिभावकों ने दावा किया कि एक महिला के पर्स से 63,000 रुपये चुराने के आरोप में पांच नाबालिगों को थाने के अंदर पीटा गया। इस मामले में बाल कल्याण समिति को भी शिकायत दी गई कि 15 वर्षीय एक लड़के को रात भर पुलिस हिरासत में रखा गया।

एमएससीपीसीआर द्वारा सोमवार को जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया कि आयोग की अध्यक्ष सुसीबेन शाह ने महाराष्ट्र के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक दीपक पांडेय को इस मामले की जांच करने के लिए पुलिस उपायुक्त (डीसीपी) रैंक के अधिकारी के तहत एक समिति नियुक्त करने का निर्देश दिया है।

विज्ञप्ति में शाह के हवाले से बताया गया कि समिति को 15 दिन के भीतर रिपोर्ट देनी होगी कि पुलिस ने इस मामले में बच्चों के अधिकारों का किस तरह से उल्लंघन किया है। इसमें कहा गया कि 19 मार्च को एमएससीपीसीआर द्वारा एक बैठक आयोजित की गई, जिसमें एडीजी पांडेय, शिवाजीनगर थाने के अधिकारी, बच्चों के माता-पिता सहित अन्य लोग शामिल हुए।

शाह ने कहा, “आयोग ने मामले में दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई करने का आदेश दिया है। पीड़ित बच्चों की चिकित्सीय जांच करने पर उनके शरीर पर खरोंच और चोट के निशान मिले हैं।” एमएससीपीसीआर की विज्ञप्ति में बताया गया कि जांच पूरी होने तक संबंधित पुलिसकर्मियों को निलंबित रखने के सख्त निर्देश दिए गए हैं। (एजेंसी)