ठाणे में गुंजा हर हर महादेव

    ठाणे : दो साल तक वैश्विक कोरोना (Corona) महामारी (Pandemic) के चलते लागू पाबंदियों (Restrictions) के कारण शिव भक्त (Shiva Bhakt) अपने मन से भगवान (God) की सेवा नहीं कर पाए थे, लेकिन इस बार शिव भक्तों ने अपने दो वर्ष की मुरादें पूरी करते नजर आए। महाशिवरात्रि पर्व पर ठाणे जिले के सभी शिवालयों में श्रद्धा-भक्ति से सराबोर हुए श्रद्धालुओं की लंबी कतार दिखाई दिया। मंगलवार को शिवालयों पर उमड़े जनसैलाब को देखते हुए सोमवार की रात से ही ठाणे शहर और ग्रामीण पुलिस प्रशासन ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हुए थे। मंदिरों में हजारों की संख्या में भक्त दुग्धाभिषेक और जलाभिषेक करते हुए दिखाई दिए। ठाणे में सभी संस्थाओं और मंडलों ने भगवान भोलेनाथ की पूजा-अर्चना करने के लिए एक दिन पहले ही पूरी तैयारी कर ली थी।

    गौरतलब है कि महाशिवरात्रि पर्व का हिंदू धर्म में बहुत महत्व है। इस दिन महिलाएं-पुरुष और युवा उपवास रखकर भगवान शिव की स्तुति करते हैं। पर्व पर उमड़ने वाली भीड़ को ध्यान में रखकर सोमवार को तमाम मंदिरों में भी तैयारियां चली। खासतौर पर ठाणे मार्केट स्थित प्राचीन कोपिनेश्वर मंदिर, ढोकाली स्थित नंदी बाबा मंदिर, उपवन स्थित शिव मंदिर आदि मंदिरों में देव प्रतिमाओं को सजाया-संवारा गया। मंदिरों की साफ-सफाई कर बिजली के झालरों और फूलों से सजाया गया। ठाणे के कोपिनेश्वर मंदिर में सुबह से ही भक्तों का तांता लगा रहा। खोपट स्थित कबीर मठ में भी शिव भक्तों के लिए व्यवस्था किया गया था। मठ के महंत महावीर दास ने बताया कि यह मठ बहुत पुराना है इसलिए हर साल यहां भक्तों का तांता लगा रहता है। इसी तरह ठाणे के 1600 फुट उंचाई पर स्थित प. पू. स्वानंद बाबा आश्रम में मुख्य न्यासी प्रेम शुक्ल व पं.दुर्गा प्रसाद पाठक और बबलू पाण्डेय के नेतृत्व में महाशिवरात्रि महोत्सव का आयोजन किया गया था। जहां पर महाभंडारा और भजन संध्या भी सुबह 11 बजे से लेकर रात 11 बजे तक आयोजित किया गया था।

    इस मौके पर सैकड़ों शिवभक्तों ने जलाभिषेक करने के साथ ही महाभंडारे में खाना खाने के साथ ही भजन संध्या का भी लुफ्त उठाए। इसी प्रकार वागले इस्टेट, इंदिरानगर, गांधीनगर, सुभाषनगर, रघुनाथ नगर रायलेश्वर मंदिर, अम्बिकानगर स्थित पंचपरमेश्वर मंदिर, वागले इस्टेट पहाड़ी पर स्थित शिव मंदिर, कलवा के विभिन्न शिव मंदिर, खिडकाली शिव मंदिर, मुंब्रा देवी मंदिर, दिवा शंकर मंदिर में शिव भक्तों की लंबी कतार दिखाई दिया। इतना ही नहीं अधिकांश मंदिरों में अखंड हरी कीर्तन और तुलसीकृत अखंड रामचरित मानस पाठ किया गया। इसके साथ ही जिले के सभी शिव मंदिरों में जाने के लिए सड़कों पर भक्तों का जनसैलाब उमड़ पड़ा। वहीं ओंकार सेवा ट्रस्ट द्वारा ठाणे पश्चिम के मनोरमा नगर में स्थित श्री सिद्धेश्वर विश्वनाथ मंदिर में आयोजित महाशिवरात्री महोत्सव 2022 का बुधवार से शुरू हो गया था और समापन मंगलवार महाशिवरात्रि के दिन हुआ। संस्था के संस्थापक महावीर पेन्यूली ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि इस रुद्राभिषेक के साथ-साथ सुबह 7 बजे से शाम 4 बजे तक फलाहार प्रसाद और ठंडाई वितरण का कार्यक्रम आयोजित किया गया था। जहां तकरीबन 1500 से भी अधिक शिवभक्तों ने भगवान शिव जलाभिषेक कर प्रसाद और फलाहार ग्रहण किया।