Kalamboli circle will be expanded, Union Minister instructed to appoint an advisor

    नवी मुंबई. वाहनों (Vehicles) की बढ़ती संख्या के चलते कलंबोली सर्कल के पास ट्रैफिक जाम (Traffic Jam) की समस्या गंभीर हो गई है। इस समस्या को दूर करने के लिए केंद्रीय सड़क विकास मंत्री (Central Road Development Minister) ने कलंबोली सर्कल (Kalamboli Circle) को विस्तार करने का निर्देश सिडको (CIDCO) और संबंधित विभाग (Related Department) को दिया है। जिससे भविष्य में कलंबोली सर्कल पर होने वाले ट्रैफिक जाम से वाहन चालकों (Vehicle Drivers) को छुटकारा मिलने की पूरी संभावना नजर आ रही है।

    गौरतलब है की, मुंबई, ठाणे, डोंबिवली, कल्याण, पनवेल और उरण की ओर आवागमन करने वाली वाहनों को कलंबोली सर्कल से होकर गुजरना पड़ता है। जिससे इस सर्कल के पास की सड़के छोटी पड़ने लगती है। इसी वजह से इस सर्कल पर ट्रैफिक जाम की समस्या गंभीर हो गई है। इसके बारे में पनवेल के विधायक प्रशांत ठाकुर ने केंद्रीय सड़क विकास मंत्री नितीन गडकरी से कलंबोली सर्कल को विस्तार करने की मांग की थी। इस संबंध में केंद्रीय मंत्री गडकरी ने हाल ही में बैठक बुलायी थी, जिसमें उन्होंने कलंबोली सर्कल के विस्तार के लिए सिडको व संबंधित विभाग को अंतर्राष्ट्रीय श्रेणी के सलाहकार नियुक्त करने का निर्देश दिया है। कलंबोली सर्कल के बारे में हुई बैठक में उरण के विधायक महेश बालदी के साथ सिडको, जेएनपीटी और एनएचएआई के मुख्य अधिकारी उपस्थित थे।

    जेएनपीटी के कारण बढ़ी वाहनों की संख्या

    उरण स्थित जेएनपीटी बंदरगाह से होने वाले कारोबार में लगातार वृद्धि हो रही है। इस बंदरगाह में देश के विभिन्न हिस्सों से ट्रक, ट्रेलर और टैंकरों से आयात और निर्यात का सामान आता-जाता है। इसी वजह से कलंबोली सर्कल से भारी वाहनों का आवागमन 24 घंटे होते रहता है। इसके साथ ही मुंबई और ठाणे से पुणे, पनवेल, अलीबाग, गोवा और जेएनपीटी की ओर आने-जाने वाली वाहनों की संख्या भी काफी बढ़ गई है। जिसकी वजह से कलंबोली सर्कल ट्राफिक जाम का केंद्र बन गया है। 20 साल के लिए नियोजन करने का सुझाव

    नवी मुंबई हवाई अड्डा के शुरू होने पर कलंबोली सर्कल से होकर गुजरने वाली वाहनों की संख्या में भारी वृद्धि होने की संभावना है। इसे देखते हुए केंद्रीय सड़क विकास मंत्री ने सिडको और संबंधित विभाग को 20 साल तक सर्कल का विस्तारीकरण की जरूरत नहीं पड़े, इस हिसाब से नियोजन करने का सुझाव दिया है। कलंबोली सर्कल के विस्तार के लिए जगह की जरूरत पड़ने वाली है। इसके लिए केंद्रीय मंत्री ने सर्कल के आसपास की जमीन किसी को देने के बजाय इसे आरक्षित रखने का निर्देश दिया है।

    रोटरी प्रकार से बनाया जाएगा सर्कल

    जेएनपीटी बंदरगाह की ओर आवागमन करने वाली भारी वाहनों और नवी मुंबई हवाई अड्डा से पुणे की ओर आवागमन करने वाली वाहनों की वजह से यातायात बाधित हो सकता है। इसे टालने के लिए कलंबोली सर्कल को रोटरी प्रकार से बनाने का नियोजन किया गया है। जहां से गुजरने वाले वाहनों को आसानी के साथ मुंबई-पुणे एक्स्प्रेस पर आवागमन करने की सुविधा होगी।

    कलंबोली सर्कल पर होने वाली ट्राफिक जाम की समस्या दिनोंदिन गंभीर बनती जा रही है। इससे छुटकारा दिलाने के लिए केंद्रीय सड़क विकास मंत्री ने जो निर्णय लिया है वह स्वागत योग्य है। केंद्रीय सड़क विकास मंत्री ने भविष्य में यहां पर ट्राफिक जाम की समस्या नहीं पैदा होने पाए, इसके बारे में नियोजन करने का निर्देश सिडको और संबंधित विभाग को दिया है। कलंबोली सर्कल के विस्तार से वाहन चालकों का समय और ईंधन दोनों की बचत होगी।

    - प्रशांत ठाकुर