Meter tampering in Ulhasnagar, electricity theft worth Rs 7 lakh

    उल्हासनगर. महावितरण विभाग (MSEDCL) द्वारा बिजली चोरों (Power Thieves) पर नकेल कसने का काम कल्याण परिमंडल में जोरों पर शुरू है। इसी अभियान (Campaign) के तहत महकमे की टीम ने उल्हासनगर कैंप (Ulhasnagar Camp) नंबर 5 के अंतर्गत विविध 3 जींस फैक्ट्री (Factory) वालों को बिजली चोरी के आरोप (Blame) में रंगे हाथों पकड़ने में सफलता अर्जित की है। कंपनी वाले बिजली के मीटर में हेरा-फेरी (Meter Manipulation) कर विभाग को चूना लगा रहे थे। साढ़े 7 लाख रूपए की बिजली चोरी करने का इन पर आरोप है। 

    महावितरण के जनसंपर्क अधिकारी विजयसिंग दूधभाते द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के मुताबिक पहला मामला स्थानीय कैंप नंबर 5 का है, जींस फैक्ट्री मालिक अर्जुन रामपाल चौरसिया और बिजली उपभोक्ता लवकुश कुमार, धर्मराज कुशवाहा पर आरोप है कि उन्होंने फैक्ट्री के मीटर से छेड़छाड़ कर बिजली चोरी की।  इस कंपनी के मीटर की गति 31.56 प्रतिशत कम की गई थी।  फैक्ट्री ने 1 लाख 34,280 रुपए  मूल्य की 9,601 यूनिट बिजली की चोरी की है। 

    दूसरे उपभोक्ता ग्राहक रमेश मोतीराम लालवानी और उनके प्रतिनिधि हरेश शबलदास  किशनानी के साथ-साथ बिजली उपयोगकर्ता विजय भिक्कु वाढेल ने ओटी सेक्शन में अपने कारखाने के मीटर को  धीमा कर रखा था, इन पर 5 लाख 83,320 रुपए की 43,721 यूनिट बिजली की चोरी का आरोप है। वहीं तीसरे मामले में अयूब नवाब खान ने गायकवाड़ पाड़ा स्थित अपने कारखाने के मीटर से छेड़छाड़ की थी। खान ने 

    2,228 यूनिट बिजली चुराई 

    तीनों फैक्ट्रियों में मीटर सेट लेआउट में बदलाव और बिजली की खपत को कम करने के चलते महावितरण को नुकसान हुआ। सहायक अभियंता रोहिदास बरंडवाल की शिकायत के अनुसार सभी संबंधितों के खिलाफ विद्युत अधिनियम, 2003 की धारा 135 के तहत अपराध दर्ज किया गया है। कल्याण मंडल के मुख्य अभियंता  धनंजय औंधेकर के मार्गदर्शन में अधीक्षक अभियंता दिलीप भोले, अतिरिक्त कार्यकारी अभियंता विजय यादव, सहायक अभियंता बरंडवाल, कनिष्ठ अभियंता योगेश आटे, जनमित्र प्रवीण अघाल्टे, सुरेश गायकवाड़, सहायक लेखाकार नीता ईसी, वरिष्ठ क्लर्क सचिन माली की टीम ने ऊक्त कार्रवाई की।