अब कैंसर से निजात दिलाएगी ‘एन्टी कैंसर वैन’, ठाणे परिमंडल को मिली वैन

    ठाणे : मरीजों (Patients) में कैंसर (Cancer) का सही वक्त पर पता लगाना और उसका इलाज सही वक्त पर करना बेहद जरूरी होती है। यदि ऐसे नहीं होता है। तो मरीजों को अपनी जान गवानी पड़ सकती है। मरीजों का सही वक्त पर इलाज हो इसलिए ठाणे परिमंडल को एक एन्टी कर्करोग वैन (Anti Cancer Van) देने के निर्णय राज्य सरकार ने लिया है। राज्य सरकार (State Government) ने वैन खरीदने की प्रशासनिक मंजूरी दे दी है। डॉक्टरों का कहना है, कि वैन मिलने से अब कर्करोग पर फ़ास्ट एक्शन लेकर इलाज किया जा सकता है। मरीजों की जान भी बचेगी। 

    बता दें कि राज्य में मुंह, स्तन और गर्भाशय कैंसर के मरीज ज्यादा हैं। इन तीनों प्रकार के कैंसर का इलाज संभव है। सही वक्त पर मरीजों को इलाज उचित मिलने से उनके ठीक होने की संभावना अधिक होती है। कैंसर रोग का सही वक्त पता लगाने और मरीजों को उचित इलाज उपलब्ध कराने और कैंसर जैसी खतरनाक रोग को रोकने के लिए राज्य सरकार ने कुल 9 अलग-अलग परिमंडल को एन्टी कैंसर वैन देने का निर्णय लिया है। इसी के तहत ठाणे परिमंडल को भी एक एन्टी कैंसर वैन की मंजूरी मिल चुकी है। जल्द ही वैन ठाणे में दौड़ेगी और मरीजों को ठीककर कैंसर को हारने में मदद करेगी। 

    बायोप्सी क्यों है जरूरी?

    कैंसर का पता लगाने के लिए बायोप्सी बहुत जरूरी है। सर्वे के दौरान मिले कैंसर मरीजों को जिला अस्पताल भेजा जाता है। मरीजों की संख्या अधिक होने से ज्यादातर मरीजों की बायोप्सी समय पर नहीं हो पाती है। मरीजों की बायोप्सी सही समय पर होने से कैंसर का शीघ्र निदान करना और समय पर इसका उपचार करना संभव हो पायेगा। 

    इन क्षेत्रों ने दौड़ेगी वैन

    राज्य स्वास्थ्य विभाग ने ठाणे, पुणे, कोल्हापुर, औरंगाबाद, लातूर, नागपुर, अकोला और नासिक में एक-एक कैंसर निदान वाहन खरीदने की मंजूरी दी है।  वाहन के साथ-साथ निरीक्षण के लिए आवश्यक उपकरण और विशेषज्ञ जनशक्ति के लिए भी मंजूरी दी है।