NMMC
Representative Pic

    -राजीत यादव

    नवी मुंबई:  राज्य सरकार ने आगामी महानगरपालिका चुनाव (Municipal Elections) एक सदस्यीय प्रभाग पद्धति की बजाय बहुसदस्यीय प्रभाग पद्धति से कराने का  निर्णय लिया है, इसके चलते पहली बार नवी मुंबई महानगरपालिका (Navi Mumbai Municipal Corporation) के 111 नगरसेवकों (Corporators) का चुनाव (Elections) पैनल पद्धति से होगा। 1 प्रभाग में 3 सदस्यों का पैनल होगा, इसके लिए 37 प्रभाग बनाए जाएंगे। पैनल पद्धति ने जहां अब तक 1 सदस्य पद्धति से चुनाव जीतने वाले नगरसेवकों का टेंशन (Tension) बढ़ा दिया है, वहीं राजनीतिक दलों का गणित भी बिगाड़ दिया है।

    गौरतलब है कि साल 2011 की जनगणना के अनुसार, नवी मुंबई महानगरपालिका क्षेत्र की कुल जनसंख्या 11 लाख 20 हजार 547 है, जिसमें अनुसूचित जाति (एससी) के 1 लाख 67 और अनुसूचित जाति के (एसटी) 18 हजार 913 समाज के लोगों का समावेश है। पहली बार पैनल पद्धति से होने वाले महानगरपालिका चुनाव में अब मतदाताओं को प्रभाग के तीनों प्रत्याशियों को मतदान करना होगा। पैनल पद्धति के चलते महानगरपालिका के विगत चुनावों में लगातार जीत दर्ज करके नगरसेवक पद पर आसीन रहने वालों की परेशानी बढ़ने और गणित बिगड़ने की पूरी संभावना है। पैनल पद्धति से सबसे ज्यादा खतरा उन लोगों को है, जिनके घर के 2 या 3 लोग आसानी से चुनाव जीत रहे थे।

    प्रभाग रचना का कच्चा प्रारूप तैयार कर रही महानगरपालिका

    राज्य चुनाव आयोग से मिले आदेश का पालन करते हुए महानगरपालिका कमिश्नर अभिजीत बांगर के मार्गदर्शन में जहां महानगरपालिका के चुनाव विभाग के अधिकारी प्रभाग रचना का कच्चा प्रारूप तैयार करने में जुट गए हैं। वहीं राजनीतिक दलों के लोग भी अपना-अपना गणित लगाने में जुट गए हैं। पैनल पद्धति के चलते इस बार नवी मुंबई महानगरपालिका का चुनाव काफी रोमांचक होने के पूरे आसार हैं।

    नवी मुंबई में सत्ता पाने की चली चाल

    जानकारों का मानना है कि नवी मुंबई महानगरपालिका की सत्ता पर काबिज होने के लिए महाविकास आघाडी ने नवी मुंबई में 3 सदस्यीय पैनल पद्धति को लागू किया है। इसके पहले भाजपा ने  4 सदस्यीय पैनल पद्धति लागू किया था। जिसे दरकिनार करते हुए महाविकास आघाडी ने 3 सदस्यीय पैनल लागू करके भाजपा को मात देने की रणनीति बनाई है, अब यह देखना है कि नवी मुंबई महानगरपालिका के चुनाव में भाजपा को शिकस्त देने के लिए क्या कांग्रेस, शिवसेना और एनसीपी एक-दूसरे के सुर में सुर मिला पाते हैं कि नहीं।

    प्रभाग रचना पर निर्भर है सारा खेल

    नवी मुंबई महानगरपालिका के चुनाव के लिए महानगरपालिका के चुनाव विभाग के अधिकारी 3 सदस्यीय प्रभाग की रचना किस तरह से करते हैं, इस पर सारा खेल निर्भर है। अपनी सुविधा के अनुसार प्रभाग रचना कराने के लिए सभी राजनीतिक दल महानगरपालिका के चुनाव विभाग के अधिकारी पर दबाव डालने का प्रयास कर सकते हैं, लेकिन नवी मुंबई महानगरपालिका कमिश्नर और चुनाव अधिकारी किस तरह से प्रभाग की रचना करेंगे। इस बात का खुलासा प्रभाग का प्रारुप सार्वजनिक होने पर ही होगा। 1 नवंबर 2021 को मतदाताओं की प्रारूप सूची जारी होगी। 3 नवंबर 2021 को सुझाव और आपत्तियां स्वीकार की जाएगी और 5 जनवरी 2022 को मतदाता सूची को सार्वजनिक किया जाएगा।