सड़क पर गड्ढे ही गड्ढे, गणेश भक्तों को रही दिक्कत

    उल्हासनगर. स्थानीय शहाड (Shahad) से गुजरने वाले कल्याण-मुरबाड रोड (Kalyan-Murbad Road) स्थित महारलगांव परिसर की मुख्य सड़क (Road) का कुछ हिस्सा वर्तमान समय में बहुत खराब है। लोगों, वाहन चालकों सहित गणेश विसर्जन के लिए जाने वाले गणेश भक्तों को दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। स्थानीय समाजसेवी अश्विन भोईर, निकेत व्यवहारे, रविंद्र लिंगायत, निकेश पावशे आदि गांववालों ने बताया कि इस सड़क को बनाए जाने की मांग विचाराधीन है। पिछले कई महीनों से राष्ट्रीय राजमार्ग  क्रमांक 222 कल्याण-मुरबाड हाईवे रोड में महारलगांव स्थित थारवानी बिल्डिंग से लेकर कांभा पावशे पाड़ा तक की सड़क की स्थिति बहुत खराब है, सड़क कम पर इसमें गड्ढे (Pits)अधिक दिखाई दे रहे है।

     गांव वालों का कहना है कि इन जगहों पर आए दिन दुर्घटनाएं होती रहती है। ऊक्त ग्रामीणों के अनुसार सड़क को बनाने की मांग पिछले लंबे अर्से से जारी है, लोकनिर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी)  के अधिकारियों ने ऊक्त सड़क को बनाने की समय सीमा 1 महीने की दी थी, लेकिन यह मियाद भी अब खत्म हो चुकी है।

    अक्सर होता है टैफिक जाम

    महकमे द्वारा उक्त सड़क का कार्य सीमेंटीकरण से होना है, इसलिए 4 या 5 दिनों में एक अस्थायी सड़क बनाने का वादा किया गया था। उन्होंने आश्वासन दिया कि साढ़े तीन किलोमीटर सड़क को तीन से चार महीने में पक्का कर दिया जाएगा।  लेकिन 30 दिन बाद भी सड़क जस की तस बनी हुई है, यहां गड्ढों की भरमार है और कई गंभीर दुर्घटनाएं भी होती हैं। इस जगह पर अक्सर भारी ट्रैफिक जाम रहता है। ग्रामीण क्षेत्रों में आदिवासी महिलाओं की डिलीवरी के लिए उल्हासनगर के केंद्रीय अस्पताल तक पहुंचने का यही एकमात्र रास्ता है  फिलहाल इन गड्ढों से पांचवा मैल में गणपति को विसर्जन के लिए ले जाना पड़ता है। ऊक्त विसर्जन स्थल जाने का यही एक रास्ता है सड़क खराब होने अब सभी को परेशानी उठानी पड़ रही है।