Maharashtra Corona Updates: Thane Municipal Corporation built vaccination centers in colleges to help the students
Representative Image

    ठाणे. ठाणे (Thane) में कोरोना टीकाकरण अभियान (Corona Vaccination Campaign) में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। जानकारी के अनुसार कलवा के आतकोनेश्वर नगर में एक व्यक्ति को कोरोना वैक्सीन के बजाय रेबीज का टीका लगाया गया है। यह मामला सामने आने के बाद महापौर नरेश म्हस्के ने मंगलवार दोपहर महानगरपालिका अधिकारियों की बैठक बुलाई और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई के आदेश दिए। इसी को देखते हुए महानगरपालिका ने डॉक्टर और नर्स को निलंबित कर दिया गया है ।

    गौरतलब है कि ठाणे महानगरपालिका पिछले कुछ महीनों से किसी न किसी वजह से चर्चा में बना हुआ है। दो महीने पहले एक महिला को एक ही समय में कोरोना वैक्सीन के तीन टीके लगाए गए थे। इतना ही नहीं पहला टीका लगने के बाद एक वरिष्ठ नागरिक के मोबाइल फोन पर मैसेज आया था कि उन्हें दूसरा टीका लग चुका है। इसके बाद विभिन्न दलों ने टीकाकरण में भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए महानगरपालिका की आलोचना की थी। टीकाकरण अभियान के दौरान हुई ये घटनाएं शांत नहीं हुई हैं। इसी बीच एक और चौंकाने वाला मामला सामने आया है, जिसने सभी को हैरान कर दिया है। बताया गया है कि कलवा के अतकोनेश्वर नगर क्षेत्र में बनाए गए महानगरपालिका के कोरोना टीकाकरण केंद्र में एक व्यक्ति को कोरोना वैक्सीन की जगह रेबीज का टीका लगाया गया।

    कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई के आदेश

    वहीं महापौर नरेश म्हस्के को जैसे ही इस बात का पता चला, उन्होंने मंगलवार को अपने कार्यालय में महानगरपालिका अधिकारियों की बैठक बुलाकर जमकर लताड़ लगाई। उन्होंने कहा कि इस तरह की लगातार घटनाओं के चलते महानगरपालिका की छवि बेवजह धूमिल हो रही है। बैठक में उन्होंने ऐसे कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई के आदेश दिए हैं। तद्नुसार अतिरिक्त कमिश्नर संदीप मालवी ने बताया कि महानगरपालिका के माध्यम से डॉक्टर और नर्स को निलंबित कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि जिस व्यक्ति को रेबीज का टीका लगाया गया, उसकी स्थिति उत्तम है।

    महानगरपालिका आयोजित करेगी बैठक

    ठाणे के व्यक्ति को कोरोना की जगह रेबीज का इंजेक्शन देने के चौंकाने वाले मामले से सबक लेते हुए महानगरपालिका प्रशासन सतर्क हो गई है। इस घटना के बाद जहां डॉक्टर और नर्स को सस्पेंड कर दिया गया है। वहीं भविष्य में ऐसा न हो इसके लिए महानगरपालिका ने डॉक्टरों और पूरी टीम की बैठक कर उनका मार्गदर्शन करने का फैसला किया है। अब इस घटना के बाद से महानगरपालिका सतर्क हो गई हैं। महानगरपालिका की तरफ से डॉक्टरों और उनके कर्मचारियों की एक बैठक द्वारा निर्देशित किया जाएगा ताकि भविष्य में इस तरह की घटनाओं को रोका जा सके।

    टीकाकरण और अन्य इलाज के लिए आते हैं

    महानगरपालिका के अधिकांश कोरोना टीकाकरण केंद्र स्वास्थ्य केंद्रों में शुरू हो गए हैं। इसलिए नागरिक यहां टीकाकरण और अन्य इलाज के लिए आते हैं। महानगरपालिका  के कमिश्नर संदीप मालवी ने कहा कि केस पेपर चेक करने आए सभी लोगों की जांच कर टीकाकरण किया जाएगा और इस प्रकार की घटना की पुनरावृत्ति न हो इसका विशेष ख्याल रखा जाएगा।