Thane Stadium

    ठाणे : सत्ताधारी शिवसेना (Shiv Sena) ने दो साल पहले लिए गए खुद के फैसले में बदलाव करते हुए अब फिर से एकबार दादोजी कोंड देव क्रीड़ा गृह (Dadoji Kond Dev Krida Griha) को सांस्कृतिक कार्यक्रमों (Cultural Programs) के आयोजन के लिए खोल दिया है। इस निर्णय के अनुसार इस स्टेडियम में आगामी दिनों में महापौर रजनी कार्यक्रम (Mayor Rajni Program) का आयोजन होने वाला है।

    गौरतलब है कि ढाई साल पहले तत्कालीन कमिश्नर संजीव जायसवाल के कार्यकाल में महासभा के दादोजी कोंड देव स्टेडियम को सिर्फ खेल के लिए रिजर्व रखने का निर्णय लिया गया था। इस संदर्भ में एक प्रस्ताव भी महासभा में मंजूर किया गया था और उस दौरान सत्तापक्ष शिवसेना और महानगरपालिका प्रशासन की तरफ से तर्क दिया गया था कि स्टेडियम खिलाड़ियों के लिए उपलब्ध नहीं है और अन्य कारणों से साल में कई दिन खिलाड़ियों को खेल की प्रैक्टिस के प्रदान नहीं किया जाता है।

    इसलिए उस समय मांग की गई थी कि यह केवल खेलों के लिए उपलब्ध कराया जाए। तदनुसार, इस संबंध में एक प्रस्ताव भी सत्तारूढ़ शिवसेना के माध्यम से पारित किया गया था और यह स्पष्ट किया गया था कि अब से यह स्टेडियम केवल खिलाड़ियों के लिए उपलब्ध होगा। इसके चलते यहां के सांस्कृतिक कार्यक्रम भी बंद हो गए थे। उसके बाद यहां की पिच को नए रूप से विकसित किया गया। यहां नई तरह की लाइटें लगाई गई हैं। स्टेडियम को अन्य मरम्मत से भी लैस किया गया है। इसके बाद से आईपीएल में खेलने वाले खिलाड़ियों ने भी अभ्यास किया और पिच की सराहना की। 

    विजय हजारे ट्रॉफी भी आयोजित

    इतना ही नहीं महाराष्ट्र के सम्मान का खेल माना जाने वाला विजय हजारे ट्रॉफी के मैच भी अगले महीने इसी मैदान पर खेले जाएंगे। यहां आने वाले एथलीटों को भी प्रशिक्षण के लिए रोक दिया गया और पिच में सुधार किया जा रहा है। लेकिन अब एकबार फिर इस स्टेडियम में मेयर रजनी की धुन फिर से बजाई जाने वाली है। क्योंकि हाल में हुई महासभा की बैठक में अवलोकन के लिए लाए गए “महापौर रजनी” नामक प्रस्ताव को सभागृह ने मंजूरी दे दी। इस प्रस्ताव की मंजूरी को लेकर सत्ताधारी शिवसेना पर खुद के स्वार्थ के लिए मंजूरी दिए जाने का आरोप लगने लगा है।

    महापौर ने किया खंडन

    महापौर रजनी कार्यक्रम के आयोजन को लेकर महापौर नरेश म्हस्के ने खंडन करते हुए कहा कि महापौर रजनी संदर्भा में अभी तक किसी प्रस्ताव को मंजूरी नहीं दी गई है और न कार्यक्रम के आयोजन को लेकर कोई निर्णय लिया गया है। हालांकि महापौर ने यह मान्य किया कि दो साल पहले महापौर रजनी कार्यक्रम का आयोजन करने को लेकर प्रशासन की तरफ से नियोजन किया गया था। लेकिन वैश्विक कोरोना महामारी के दस्तक के कारण इसे रद्द कर दिया गया था।