Thane Municipal Corporation

    ठाणे. ठाणे (Thane) में पिछले दिनों हुए यातायात जाम (Traffic Jam) की समस्या के बाद एनसीपी, कांग्रेस, भाजपा और मनसे द्वारा हुए हमलों के मद्देनजर जहां पालकमंत्री एकनाथ शिंदे खुद सड़को पर पड़े गड्ढों (Potholes) की भराई कराते दिखे थे वहीं एक दिन पहले उन्होंने टास्क फोर्स (Task Force) गठित करने का आदेश दिया था। साथ ही उन्होंने निकृष्ट दर्जे का काम करने वाले ठेकेदारों और लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों के विरुद्ध कड़ी करवाई करने का निर्देश महानगरपालिका प्रशासन को दिया था। जिसके बाद महानगरपालिका प्रशासन एक्शन में आ गया है।

    महानगरपालिका  कमिश्नर डॉ. विपिन शर्मा ने शनिवार को चार इंजीनियरों को निलंबित कर दिया था। वहीं रविवार को शहर की विभिन्न सड़कों की मरम्मत का काम करने वाले ठेकेदारों को नोटिस जारी कर दिया गया है। ठाणे महानगरपालिका की ओर से मेसर्स बिटकॉइन इंडिया इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपर्स कंपनी के ठेकेदारों को नोटिस जारी कर सड़क मरम्मत कार्य तत्काल और गुणवत्तापूर्ण तरीके से नहीं करने पर मुकदमा दर्ज कर कंपनी को ब्लैक लिस्ट करने की चेतावनी दी गई है। इससे सड़क निर्माण और मरम्मत से जुड़े अधिकारियों और ठेकेदारों में हड़कंप मचा गया है।

    अधिकारियों पर कड़ी करवाई करने का आदेश

    उल्लेखनीय है कि 24 सितंबर को पालक मंत्री एकनाथ शिंदे ने शहर की विभिन्न गड्ढा युक्त सड़कों का दौरा किया था। सड़कों में पड़े गड्ढों की वजह से आम नागरिकों हो रही परेशानी को देखते हुए निकृष्ट दर्जे का काम करने वाले ठेकेदारों और उन कामों से जुड़े अधिकारियों पर कड़ी करवाई करने का आदेश महानगरपालिका कमिश्नर डॉ. विपिन शर्मा को दिया था। पालक मंत्री के आदेश पर जहां गड्ढो को भरने का कार्य युद्ध स्तर पर शुरू कर दिया गया है वहीं शक्ति पीठ मानपाड़ा से नागला बंदर स्थित मल प्रक्रिया केंद्र और यूनी अपेक्स कंपनी से शिवमंदिर गायमुख तक की सड़क को मरम्मत करने का कार्यादेश दे दिया गया है। सुरज वॉटर पार्क से एमटीएनएल कार्यालय, कॉसमॉस ज्वेलर्स से कासारवडवली सिग्नल, पानखंडा रोड से नागलाबंदर सिग्नल, गायमुख से भाईदरपाडा गाव, वाघबिल चौक से पातलीपाडा चौक आदि तक के सड़को पर गड्डो को भरने की जिम्मेदारी ठेकेदारों को सौंप दी गई है।

    कंपनी को काली सूची में शामिल करने की चेतावनी 

    इसके पूर्व उक्त सड़कों की मरम्मत की गई थी पर निकृष्ट सामग्री के चलते मानसून के दौरान सड़कों में गड्ढे पैदा हो गए थे। इससे नागरिकों और वाहन चालकों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा है। निकृष्ट दर्जे की सामग्री का उपयोग करने वाले ठेकेदारों को महानगरपालिका के सार्वजनिक निर्माण विभाग द्वारा नोटिस जारी की गई है जिसमें उनका बकाया बिल अदा न करने, निविदा में निर्धारित शर्तो का पालन न करने के लिए संबंधित ठेकेदारों को कारण बताओ नोटीस जारी कर तीन दिनों के अंदर इसका खुलासा करने को कहा गया है। नोटिस में सभी कामों को तत्काल पूरा न करने पर नागरिकों को होने वाली परेशानी के मद्देनजर आपराधिक मामला दर्ज करने और कंपनी को काली सूची में शामिल करने की चेतावनी भी दी गई है।

    इन प्रभाग समिति क्षेत्रों में करना होगा काम

    इस कार्य के साथ-साथ कार्यालय द्वारा इन तीन दिनों में दिए गए निर्देशानुसार नौपाड़ा-कोपारी प्रभाग समिति, उथलसर प्रभाग समिति और वर्तकनगर प्रभाग समिति के गड्ढों की मरम्मत का कार्य भी गुणवत्तापूर्ण ढंग से पूरा करने के आदेश जारी किए गए हैं। इस बीच यदि सभी कार्य तत्काल नहीं किए जाते हैं, तो महानगरपालिका ने नागरिकों को असुविधा पहुंचाने के लिए मामला दर्ज कर कंपनी को ब्लैकलिस्ट किया जा सकता हैं।