भिवंडी के बाजार क्षेत्र पार नाका में लगा कचरे का अंबार

    भिवंडी: भिवंडी-निजामपुर शहर महानगरपालिका (Bhiwandi-Nizampur City Municipal Corporation) प्रशासन साफ-सफाई को लेकर बड़े-बड़े दावे करती है, साथ ही शहर की सफाई के लिए महानगरपालिका प्रशासन (Municipal Administration) हर माह करीब एक करोड़ रुपए खर्च करती है उसके बावजूद भी शहर में जगह-जगह कचरे (Garbage) का अंबार लगा रहता है। जिससे स्थानीय नागरिकों के साथ रास्ते में आने जाने वाले नागरिकों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है। 

    भिवंडी शहर के मुख्य बाजार स्थित पार नाका के पास कचरे का अंबार लगा है जिस पर विगत दो दिन से महानगरपालिका साफ-सफाई विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों की नजर नहीं पड़ी। वार्ड के नगरसेवक का आरोप है कि शिकायत के बाद भी महानगरपालिका प्रशासन का स्वच्छता विभाग भिवंडी के मुख्य बाजार क्षेत्र में साफ-सफाई पर ध्यान नहीं देता। 

    संक्रामक बीमारियों के फैलने का खतरा 

    स्थानीय नागरिकों का कहना है कि भिवंडी का मुख्य बाजार होने के कारण भिवंडी शहर के कोने-कोने से लोग रोज मार्केटिंग करने के लिए पार नाका, मंडई, कासार आली, तीन बत्ती क्षेत्र में आते हैं, जिसके कारण उक्त क्षेत्र में प्रतिदिन भारी मात्रा में कचरे का जमा होना स्वाभाविक है। स्थानीय नागरिकों ने मांग की है कि महानगरपालिका प्रशासन क्षेत्र में रहने वालों और दुकानदारों से टैक्स तो वसुलती है। साफ-सफाई के नाम पर करोड़ों रुपए खर्च दिखा कर साफ-सफाई के बड़े-बड़े दावे करती है, किंतु इस क्षेत्र में कर्मचारी साफ-सफाई करने और इकट्ठा किए हुए कचरे को उठाने में लापरवाही करते हैं। बाजार परिसर में फैली गंदगी और कचरे के कारण क्षेत्र में संक्रामक बीमारियों के फैलने का खतरा हमेशा बना रहता है।