Ulhasnagar Municipal Corporation

    उल्हासनगर.  स्थानीय (Local) कैम्प क्रमांक 5 स्थित  स्वामी शांति प्रकाश आश्रम से लेकर दत्त मंदिर, दुर्गा पाड़ा रोड़ को चौड़ा करने की योजना (Plan) को कार्यांवित (Implemented) किए जाने के लक्ष्य (Aim) को लेकर महानगरपालिका (Municipal Corporation) द्वारा दुकानदारों (Shopkeepers) को चिन्हित (Marked) किया गया। जिनकी दुकानें इसके अधीन (Subordinate) आती है। उन्हें खुद तोड लेने की नोटिस दी गई है। उक्त नोटिस मिलने से लगभग 100 से अधिक दुकानदारों के बीच हड़कंप (Stir) मच गया है।

    मिली जानकारी के अनुसार उक्त रोड़ के दुकानदारों को महानगरपालिका प्रभाग समिति 4 के सहायक आयुक्त और पदनिर्देशित अधिकारी महेंद्र पंजाबी के हस्ताक्षर से नोटिस जारी की गई है। नोटिस में लिखा है कि सीसी रोड और सड़क के किनारे नाली बनाने का काम किया जाना है। इसलिए जिनकी दुकानें महानगरपालिका प्रशासन द्वारा निश्चित की गई चिन्हित के अंतर्गत है वह नोटिस मिलने के दिन से अगले 7 दिनों के भीतर स्वंय अपने दुकान तोड़कर महानगरपालिका का सहयोग करें अन्यथा महानगरपालिका द्वारा यदि कार्यवाई की गई तो उस पर आने वाला खर्च संबंधित दुकानदार से महानगरपालिका द्वारा वसूल किया जाएगा।

    महानगरपालिका द्वारा दुकानदारों को दी गई नोटिस के मुद्दे पर दुकानदारों के बीच कार्यरत संस्था उल्हासनगर ट्रेड एसोसिएशन (युटीए) के कार्याध्यक्ष दीपक छतलानी ने संवाददाता से बातचीत करते हुए कहा कि नागरिकों सहित दुकानदार पिछले डेढ़ साल से कोरोना के कारण लगे लॉकडाउन से बुरी तरह प्रभावित हो चुके है। उस पर अब तुरंत दीपावली के अवसर पर महानगरपालिका का तोड़ू कार्यवाई के लिए नोटिस भेजने से दुकानदारों में नाराजगी है।

    उल्हासनगर ट्रेड एसोसिएशन पदाधिकारी छतलानी ने कहा कि शहर विकास के काम में  दुकानदार बाधा उत्पन्न नहीं केरेंगे लेकिन अब जो भी योजना करनी है वह दीपावली के बाद ही दुकानदारों के साथ मिल बैठकर करनी चाहिए। उन्होंने बताया कि उल्हासनगर ट्रेड एसोसिएशन की 5 नंबर व्यापारी एसोसिएशन के अध्यक्ष दिनेश लहरानी के साथ उल्हासनगर ट्रेड एसोसिएशन प्रतिनिधि मंडल सोमवार को महानगरपालिका के संबंधित प्रभाग अधिकारी और महानगरपालिका के आयुक्त से मुलाकात कर कोई भी कार्य अब दीपावली त्योहार के बाद ही करने का निवेदन करेगा।