4 तहसीलों में शत-प्रश बारिश, गत वर्ष की तुलना में 10 प्रश अधिक बरसात

    वर्धा. जिले में इस बार अब तक 98.70 प्रश बारिश दर्ज की गई़ जो पिछले साल 88.27 प्रश की तुलना में 10 प्रतिशत अधिक हुई है़ जिले में औसतन 908.78 मिमी बारिश दर्ज की गई़ वहीं जिले देवली, आर्वी, आष्टी व कारंजा तहसील में शतप्रतिशत बारिश हुई है़  अंतिम दिनों में बारिश अपना जोर दिखा रही है़  जिले में निरंतर गिर रही वर्षा से सभी जलाशय, नदी, नाले लबालब भर गए है़ं  फलस्वरूप गर्मी के दिनों में जलसंकट का सामना लोगों को नहीं करना पड़ेगा़  परंतु कुछ तहसीलों में अतिवृष्टि होने से फसलों का भारी नुकसान दर्ज किया गया है़  नदी, नाले का पानी व प्रकल्पों का बैकवॉटर खेतों में घुसने से फसल बर्बाद हो रही है़ इस बार बारिश ने जिले में काफी कहर बरपाया है.  

    बदरीला मौसम, दोपहर में रिमझिम

    गुरुवार को भी बदरीला मौसम छाया रहा़ दोपहर के समय रिमझिम बारिश हुई़ तो कुछ हिस्सो में जोरदार मेघ बरसे़ अब तक जिले में कुल 98.70 प्रश बारिश हुई है़ इसमें वर्धा तहसील 87.39 प्रश, सेलू 98.99 प्रश, देवली 101.24 प्रश, हिंगनघाट 97.06 प्रश, समुद्रपुर 93.85 प्रश, आर्वी 104.59 प्रश, आष्टी 102.46 प्रश, कारंजा 105.13 प्रतिशत बारिश हुई है़ गत वर्ष इसी तारिख तक जिले में 88.27 प्रश बारिश हुई थी़ इसकी तुलना में इस बार 10 प्रश बारिश हुई है़  इस माह में मौसम विभाग ने बारिश की आशंका जताई है़ लौटती बारिश किसानों की चिंता बढाएंगी, ऐसा अनुमान है. 

    9 प्रकल्प शत-प्रतिशत भरे

    निरंतर वर्षा के कारण जिले के 11 में से 9 प्रकल्प शत प्रतिशत भरें है़ं  इसमें धाम प्रकल्प, पोथरा प्रकल्प, पंचधारा प्रकल्प, डोंगरगांव प्रकल्प, मदन प्रकल्प, मदन उन्नई बांध, लाल नाला, वर्धा कार नदी प्रकल्प, सुकली लघु प्रकल्प का समावेश है़ जबकि बोर प्रकल्प 95.21 प्रश व निम्न वर्धा में 95.02 प्रश जल भंडारण बताया गया.

    बोर प्रकल्प से छोड़ा पानी

    बोर प्रकल्प लबालब भरने से सिंचाई विभाग ने गुरुवार की दोपहर 2 बजे 3 गेट 15 सेमी से खोले गए़  इसमें से 35 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है़  नदी पात्र का जलस्तर बढ़ने से प्रशासन ने तट वर्तीय इलाकों में सतर्कता बरतने का आह्वान किया है.