4 गांवों का संपर्क टूटा, पोथरा नाले में बाढ़, बांधों के गेट खोले, तट के गांवों किया अलर्ट

    • जिले में नदी, नाले उफान पर
    • जलाशयों के जलस्तर में वृध्दि
    • वडगांव-पिंपलगांव मार्ग किया बंद
    • वाघाड़ी नदी में बाढ़ से संकट 
    • बारिश से खेतों में जलजमाव 

    वर्धा. जिले में हो रही लगातार बारिश से नदी, नाले उफान पर हैं. जिले के जलाशयों में जलस्तर बढ़ने से अतिरिक्त पानी छोड़ने की प्रक्रिया शुरू है, जिससे तटवर्तिय इलाकों में रहने वाले ग्रामीणों को सतर्कता बरतने की की चेतावनी दी गई है. जिले में सोमवार रात व मंगलवार की सुबह हुई बारिश से नदी, नाले उफान पर है, जिससे आने के कारण सावंगी के पुल के ऊपर से पानी बह रहा है. इसके चलते चार गांवों का संपर्क टूटने की खबर है. वडगांव-पिंपलगांव मार्ग भी यातायात के लिए बंद किया गया है. वाघाड़ी नदी में भी बाढ़ आने से सड़कें जलमय हो गई है. समुद्रपुर-वायगांव गोंड मार्ग भी बंद होने की जानकारी है. 

    जिले में धुआंधार बारिश से सड़कें जलमय

    बारिश से खेती फसलों का भी भारी नुकसान हुआ है. ऐन सोयाबीन कटाई के समय हो रही बारिश से सोयाबीन की फल्लियां अंकुरित हो रही है. वहीं कपास के बोंड भी सड़ने की खबर है. लगातार बारिश से लगभग सभी बांधे शत-प्रतिशत भर गए हैं, जिससे अब पानी का रिसाव शुरू है. जिले में सोमवार की रात व मंगलवार की दोपहर तक लगातार बारिश होती रही, जिससे अब बांधों का जलस्तर फिर से बढ़ने के कारण पानी छोड़ा जा रहा है. समुद्रपुर तहसील के वडगांव-पिंपलगांव मार्ग पर सावंगी नदी में बाढ़ आने से पोथरा नाला भी ओवर फ्लो हो गया है. परिणाम स्वरुप वडगांव-पिंपलगांव मार्ग से 21 सितंबर को सुबह से ही यातायात बंद रहा. मार्ग पूरी तरह से बंद किया गया, जिससे चार गांवों का संपर्क टूट गया है. 

    डेढ़ दशक से पुल के निर्माण की मांग प्रलंबित 

    गत डेढ़ दशक से इस पुल की निर्मिति की मांग प्रलंबित है. इस संदर्भ में वडगांव, सावंगी, लोखंडी, सायगव्हाण, पिंपलगांव स्थित नागरिकों ने जनप्रतिनिधि के समक्ष अपनी समस्या रखी, परंतु कोई सुध नहीं ले रहा है. इस नदी का उगम गिरड से होता है. इस परिसर में 15 से अधिक गांव के नाले में नालियों का पानी प्रवाहित होने से सावंगी गांव समीप पुल से पानी बह रहा है. इससे नाले में बाढ़ आकर यातायात ठप हो गया है. उसी तरह वाघाडी नदी में बाढ़ आने से समुद्रपुर-वायगांव मार्ग जलमय हो गया, जिससे यातायात ठप रहा.

    कानगांव में दीवार ढहने से एक घायल

    हिंगनघाट तहसील के कानगांव में मूसलाधार बारिश से घर की दीवार ढह गई, जिसमें व्यक्ति घायल हो गया. उक्त घटना 21 सितंबर को सुबह 11 बजे घटी. घायल अशोक उत्तमराव पिठाडे (44) बताया गया. 

    वडगांव 3 व नांद 7 के गेट खोले

    21 सितंबर को वडगांव बांध के 3 गेट व नांद के 7 गेट से पानी का रिसाव शुरू है. उसमें भी नागपुर, उमरेड क्षेत्र में बड़े प्रमाण में बारिश होने से इस क्षेत्र से आनेवाला पानी सीधे दोनों बांध क्षेत्र में जमा हो रहा है. यह दोनों बांध फिलहाल पूरी तरह से भरने के कारण पानी का विसर्ग शुरू है. इससे नदी तट के नागरिकों ने सतर्क रहने की चेतावनी कार्यकारी अभियंता राजेश ढुमणे ने दी है. 

    बोरधरण ने किया रिकार्ड ब्रेक

    जिले में गत एक माह से लगातार जारी बारिश के कारण बांधों में जलस्तर बढ़ गया है. बोरधरण ने इस वर्ष रिकार्ड ब्रेक किया है. इस साल 6वीं बार गेट खोले गए हैं. वहीं नांद व वडगांव बांध से पानी का बहाव शुरू है, जिससे नदी तट के लोगों को सतर्कता की चेतावनी दी गई है. बोरधरण का पानी स्तर 330.06 मीटर है. सोमवार को क्षेत्र में मूसलाधार बारिश होने से पानी का रिसाव शुरू है. इससे मंगलवार की सुबह 11 बजे 7 गेट 25 सेमी से खोजकर 136.11 क्यूसेक से पानी का रिसाव शुरू है. 

    लाला नाला के 5 गेट खुले

    लगातार बारिश के कारण लाला नाला प्रकल्प के 5 गेट से पानी का रिसाव शुरू है. मंगलवार की दो गेट 5 सेमी से खोलकर 6.40 क्यूसेक से पानी का रिसाव शुरू है.

    बांध क्षेत्र में रहने वाले बरतें सावधानी

    बांध क्षेत्र में होने वाली बारिश व आस पास के क्षेत्र से आनेवाले पानी से आकस्मिक बाढ़ सदृश्य स्थिति निर्माण हो सकती है. बांध की क्षमता ध्यान में लेकर कभी भी गेट खोलकर पानी का रिसाव हो सकता है. इस कारण नागरिकों ने नदी तट पर न जाते हुए आवश्यक सामग्री व जानवरों को सुरक्षित स्थल पर स्थलांतरित करने की तैयारी रखने की सूचना दी गई है. इसके अलावा कोई भी बाढ़ के पानी में प्रवेश न करें. बाढ़ का खतरा ध्यान में लेकर सुरक्षित जगह पर स्थलांतर करें. पुराने व क्षतिग्रस्त इमारत का सहारा न लें. पुल से पानी बहने पर पुल पार न करें. अफवाहों पर विश्वास न करने का आह्वान प्रशासन ने किया है.