Mumbai Police arrested a vicious thief, has done 215 thefts so far including the house of underworld don Chhota Rajan's sister
प्रतीकात्मक तस्वीर

    वर्धा. पांच वर्षों से डरा धमकाकर पुत्री का यौन शोषण कर रहे पिता को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया़  पिता-पुत्री के रिश्ते को शर्मशार करने वाली घटना से खलबली मच गई़  न्यायालय में पेश करने पर आरोपी को एक दिन की पुलिस रिमांड सुनाई गई़  शहर से सटे इलाके की 16 वर्षीय पीड़िता ने बाल संरक्षण अधिकारी माधुरी भोयर से संपर्क कर आपबीती कथन की़  पश्चात सेवाग्राम थाने में पहुंचकर अपने वहशी पिता के अत्याचार कका पाढ़ा गिनाया.

    पीड़िता के अनुसार उसके पिता वर्धा में नौकरी में कार्यरत है़ पीड़िता कक्षा 11 वीं में अध्ययनरत है़  पहले पीड़िता का परिवार यवतमाल जिले में निवासित था़  पिता वर्धा में नौकरी पर होने से वह आना-जाना किया करते थे़  पीड़िता 6 वीं कक्षा में थी उस समय पिता ने उसके साथ दुराचार किया था़  यह बात पीड़िता ने मां व मौसी को बताई थी. 

    परंतु उन्होंने इसे अधिक गंभीरता से नहीं लिया़ आरोपी ने पीड़िता का कक्षा 6 वीं से कक्षा 8 वीं तक यौन शोषण किया़  पश्चात उसका परिवार वर्धा में रहने आ गया़  यहां स्कूल में कक्षा 9 वीं में पीड़िता ने दाखिला लिया़  यहां आने के बाद भी पिता हरकतों से बाज नहीं आया़  आरोपी ने 21 जुलाई 21 तक पीड़िता का यौन शोषण किए जाने बात की शिकायत में कही. 

    सहेलियों को दी जानकारी

    एक दिन पीड़िता सहेलियों के साथ कैफे में बैठी थी़  तब उसे पिता का फोन आया व उसने पीड़िता को भलाबुरा कहा़  इस पर सहेलियों ने उसे विश्वास में लेकर पूछताछ की़  पश्चात पीड़िता ने सहेलियों को पूरी बात बताई़  एक सहेली ने अपने मां के पास यह बात बताई़  उन्होंने पीड़िता से बात कर बाल संरक्षण अधिकारी माधुरी भोयर से संपर्क करने की सलाह दी़ 

    बाल संरक्षण अधिकारी से हुआ संपर्क

    23 सितंबर को पीड़िता ने बाल संरक्षण अधिकारी से संपर्क कर आपबीती कथन की़  पश्चात भोयर ने पीड़िता से मुलाकात कर उसे सेवाग्राम थाने में पहुंची़ जहां पीड़िता ने पिता के अत्याचारों का पाढ़ा गिनाया़ इस आधार पर पुलिस ने विविध धाराओं के तहत आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया़ 

    वरिष्ठ अधिकारियों ने दिखाई गंभीरता

    प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए अपर पुलिस अधीक्षक यशवंत सोलंके, डीवाईएसपी पीयूष जगताप ने भी पीड़िता से भेंट कर उसे आश्वस्त किया़  प्रकरण की जांच पोस्को सेल को सौंपी गई़  उन्होंने आरोपी को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया, जहां उसे एक दिन की पुलिस कस्टडी सुनाई गई़  आगे की जांच सेवाग्राम के थानेदार नीलेश ब्राह्मणे के मार्गदर्शन में पोस्को सेल की पीएसआई प्रीति आडे व उनकी टीम कर रही है.