Cable Broken, Train Stopped

    • वर्धा, पुलगांव, बडनेरा में रोकी ट्रेनें  
    • मौके पर ही टैंकरों की लग गई कतारें  
    • 2 घंटे तक चला मरम्मत का कार्य 
    • हावड़ा-मुंबई मेल को 1 घंटे तक रोका 
    • मालगाड़ी को 3 घंटे तक रोककर रखा 

    वर्धा. नागपुर-बडनेरा मार्ग पर स्थित दहेगांव रेलवे स्टेशन के समीप एक टैंकर रेलवे गेट से टकराने के कारण रेलवे लाइन मुख्य केबल टूट गई. परिणामवश अप व डाउन रेल मार्ग पर ट्रेनों का परिचालन करीब 3 घंटे तक अवरूध्द रहा. सुपर फास्ट ट्रेनें और व मालगाड़ियों को वर्धा, पुलगांव, बडनेरा समेत अन्य स्टेशन पर ही रोक दिया गया.  

    बड़ी संख्या में गुजरते हैं आयल टैंकर 

    जानकारी के अनुसार वर्धा–पुलगांव रेलवे मार्ग पर स्थित दहेगांव स्टेशन में नायरा एनर्जी का आयल डिपो है. यहां प्रतिदिन पेट्रोल व डीजल भरने के लिये टैंकर बड़ी संख्या में आते है. कंपनी में जाने के लिये टैंकरों को रेलवे लाइन के गेट को पार करके गुजरना पड़ता है. ट्रेन आने पर रेलवे गेट बंद किया जाता है. बुधवार की दोपहर 1 बजे के दरमियान ट्रेन के गुजरने का समय होने के कारण गेट बंद कर दिया गया था. 

    पूर्ण रूप नहीं खुल पाया रेलवे गेट 

    ट्रेन के लिये गेट बंद करने के कारण टैंकरों की कतारें लग गई थी. ट्रेन गुजरने के बाद गेटमैन ने गेट खोला, परंतु गेट पूर्ण रूप से नहीं खुल पाया. दरमियान टैंकर क्रमांक एमएच 34 बीजी 5768 का चालक विट्ठल मोरे नायरा एनर्जी में जाने के लिये निकला. किंतु गेट का हिस्सा निचे होने के कारण टैंकर से टकराया, जिससे गेट का हिस्सा टूटकर रेलवे की मेन लाइन से जा टकराया. परिणामवश हाई वोल्टेज लाइन का केबल टूट गया. 

    घटना के बाद मौके पर मच गई भागदौड़

    रेलवे गेट के पास अन्य टैंकर भी खड़े थे. कंपनी का मुख्य व्दार गेट को लगकर होने से रेलवे की मेन केबल टूटने के बाद भागदौड़ मच गई. टैंकरों को तुरंत रोका गया. गेटमैन ने इसकी सूचना तुरंत दहेगांव के स्टेशन मास्टर व वर्धा रेलवे स्टेशन को दी. तत्पश्चात नागपुर डीआरएम कार्यालय को भी अवगत कराया गया. इसके बाद गाड़ियों को वर्धा, पुलगांव बडनेरा व अन्य स्टेशन पर रोकने के निर्देश दिए गए.   

    सूचना मिलते ही टीआरटी विभाग का दस्ता पहुंचा

    केबल टूटने से ट्रेनों का परिचालन अवरूद्ध होने की सूचना मिलते ही टीआरटी विभाग का दस्ता घटनास्थल पर पहुंचा. दस्ते ने दोपहर 2 बजे मरम्मत का कार्य आरंभ किया. करीब दो घंटे तक मरम्मत का कार्य चला. दस्ते में करीब 40 से 45 कर्मचारी शामिल थे़  उन्होंने युद्धस्तर पर कार्य किया़  इसके बाद ट्रेनों का परिचालन सुचारू किया गया. दोपहर के समय में एक्सप्रेस ट्रेनों का परिचालन कम होने की जानकारी सूत्रों ने दी. हावड़ा-मुंबई मेल को वर्धा स्टेशन पर करीब 1 घंटे तक रोका गया. वहीं मालगाड़ी को 3 घंटे तक रोका गया़  मरम्मत कार्य पूर्ण होने के उपरांत मेल मुंबई के लिये रवाना की गई. 

    तत्काल मरम्मत का कार्य किया गया शुरू

    केबल टूटने की जानकारी मिलने के बाद तुरंत टीआरटी दस्ते को भेजा गया. डेढ़ घंटे के भीतर मरम्मत का कार्य पूर्ण किया गया, जिससे ट्रेनों के परिचालन पर ज्यादा असर नहीं पड़ा. 

    -धीरज ठाकुर, स्टेशन मास्टर-वर्धा