File Photo
File Photo

  • पुलिस ने किया कानून व्यवस्था बनाये रखने का आह्वान

वर्धा. पिछले दो वर्षों से नवरात्रोत्सव व विजयादशी के उत्सव पर कोरोना का संकट मंडरा रहा है़ सरकारी पाबंदियों के तहत त्योहार मनाये जा रहे है़ं गत वर्ष की तरह इस बार भी जिले में रावण दहन नहीं किया जाएगा. सरकारी गाइडलाइन के अनुसार पुलिस विभाग ने कहीं पर भी रावण दहन के लिए अनुमति नहीं दी है़ साथ ही विजयादशमी पर नागरिकों को शांति व कानून व्यवस्था बनाये रखने का आह्वान पुलिस ने किया है़ जिले में नवरात्रि के नौ दिन बड़े भक्तिभाव व उत्साह के साथ मनाये जाते है़ं परंतु इस बार कोरोना नियमों के कारण नवरात्रि उत्सव सादगी से मनाया गया़ विजयादशमी पर भी बरसों से चलती आ रही परंपरा को पिछले साल से विश्राम मिला है.

सरकार की गाइड लाइन को हों पालन 

गत वर्ष कोरोना संक्रमितों की संख्या अधिक होने से रावण दहन तथा अन्य धार्मीक, सांस्कृतिक कार्यक्रमों को अनुमति नहीं दी गई थी़  इस वर्ष रावण दहन किए जाने की उम्मीद थी़  परंतु सरकार की गाइडलाइन के अनुसार इस प्रकार के कार्यक्रमों पर पाबंदी लगाई गई है़  जिले में बरसों से पांच से छह स्थानों पर रावण दहन किया जाता है़ शहर के सर्कस मैदान व धुनिवाले मठ परिसर में रावण दहन का भव्य कार्यक्रम लिया जाता है. 

जिले में भीड़ न होने देने पर विभाग अलर्ट 

बुरे विचारों पर अच्छे विचारों की जीत को रावण दहन का प्रतीक माना जाता है़  इस कार्यक्रम में बड़ी संख्या में नागरिक पहुंचते है़ं  परंतु जिले में कहीं पर भी भीड़ न हो इसलिए इस प्रकार के कार्यक्रमों को अनुमति नहीं दिए जाने की जानकारी पुलिस विभाग ने दी है़  नागरिकों से एक जगह पर इकठ्ठा होकर भीड़ न करने का आह्वान किया गया है. साथ ही दुर्गा विसर्जन व विजयादशमी को देखते हुए जिले में जगह-जगह पर कड़ा पुलिस बंदोबस्त तैनात किया गया है.