Cotton Purchase
File Photo

    वर्धा. अंतराष्ट्रीय बाजार में बढ़ती मांग व उत्पादन में भारी कमी के कारण इस बार कपास को रिकार्ड भाव मिल रहा है़ 28 मार्च को सिंदी कृउबास की सेलू उपबाजार मंडी में 13,395 रु़ प्रति क्विंटल से भाव से कपास की खरीदारी की गई़ आगामी दिनों में कपास का मूल्य 14,000 रु़ प्रति क्विंटल तक पहुंचने की संभावना है़ इस वर्ष कपास का उत्पादन कम हुआ है़ अंतरराष्ट्रीय बाजार में कपास की कमी खल रही है. इसके चलते सरकी व ढेप की कीमतों में भी वृध्दि हुई़ उत्पादन घटने से मांग अधिक बढ़ रही है. ऐसे में निजी व्यापारी कपास को अधिक मूल्य दे रहे है.

    आगामी दिनों में भाव बढ़ने की संभावना

    किसान भी घरों में रखा हुआ कपास बिक्री के लिए मंडी में ला रहा है़ अच्छा मूल्य मिलने से जिले के किसानों में हर्ष देखा जा रहा है. जिले की हिंगनघाट, देवली, सेलू उपबाजार मंडी में दिन प्रतिदिन कपास का मूल्य बढ़ रहा है़ 28 मार्च को सेलू उपबाजार मंडी में रिकार्ड 13,995 रु़ प्रति क्विंटल का भाव मिलने से क्षेत्र के किसान हर्षित है़ आगामी दिनों में कपास का मूल्य और बढ़ने की संभावना है.

    खुली अर्थव्यवस्था का मिल रहा लाभ

    देश में आज खुले बाजार व खुली अर्थव्यवस्था का लाभ किसानों को मिल रहा है़ पहली बार सरकारी हस्तक्षेप कम होने से खुले बाजार में कपास को रिकार्ड मूल्य मिल रहा, जो किसानों के साथ न्याय है़ सरकार ने अगर किसानों को व्यापार के लिए स्वतंत्र बाजारपेठ व पूर्ण स्वतंत्रता दी तो भारतीय किसान दुनिया के स्पर्धात्मक मार्केट में टीके रहेगा़ इसमें किसानों को लाभ मिलेगा। 

    -सतीष दाणी, नेता-किसान संगठन.