प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

    वर्धा. पेन्शनर्स को अपना निशाना बनाते हुए लूटपाट को अंजाम देने वाले दो आरोपियों को रामनगर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया़ करीब एक माह से थाने का डीबी स्काड इन बदमाशों की तलाश में था़ आरोपियों में एकोर्ली निवासी नीलेश विनायक गिरडकर (32) व चंद्रकांत दशरथ काटकर (25) का समावेश है़ बता दें कि रामनगर थाना क्षेत्र में आने वाले राष्ट्रभाषा प्रचार समिति मार्ग पर फरवरी तथा मार्च में लूटपाट की दो वारदाते सामने आयी थी़ इसमें पेन्शनर्स को लुटेरों ने निशाना बनाया था.

    दोनों घटना में 94 हजार की नकद उड़ायी गई थी़ प्रकरण में मामला दर्ज कर पुलिस ने लुटेरों की तलाश शुरू कर दी़ लुटेरों को पकड़ने की जिम्मेदारी थाने के डीबी दस्ते को सौंपी गई़ दोनों घटना के बाद पुलिस ने संबंधित एसबीआई व महाराष्ट्र बैंक के सीसीटीवी फुटेज जांचे़ इस आधार पर संदिग्धों की तलाश शुरू हुई़ डीबी दस्ते के कर्मी आठ दिनों तक शहर के प्रमुख बैंकों पहचान छुपाकर नजर गड़ाए हुए थे़ इस बीच मुख्य मार्ग पर स्थित महाराष्ट्र बैंक में गुरुवार को संदिग्ध फिर एक बार वारदात को अंजाम देने की तैयारी में थे.

    एक संदिग्ध की गिरफ्तारी से मामला उजागर

    पुलिस ने अवसर देख एक आरोपी को हिरासत में लिया़  उसने अपना नाम नीलेश बताया़ जानकारी के आधार पर कुछ ही दूरी पर चंद्रकांत को भी दबोचा गया़  दोनों ने पूछताछ में हिंगनघाट में इसी प्रकार की वारदात को अंजाम देने की बात कबूली़  कार्रवाई को उपविभागीय पुलिस अधिकारी पीयूष जगताप, थानेदार धनाजी जलक के मार्गदर्शन में डीबी दस्ते के प्रमुख एएसआई उदयसिंग बारवाल, पुलिस कर्मी अजय अनंतवार, पंकज भरणे, संदीप खरात, अजीत सोर, संतोष कुकडकर ने अंजाम दिया़  दोनों आरोपियों ने बेरोजगारी व आर्थिक समस्या से तंग आकर इन घटनाओं को अंजाम देने की जानकारी है.