RATION
File Photo

    आर्वी (सं). देश कोरोना वायरस जैसी महाभयंकर संक्रामक बीमारी का अभी भी सामना कर रहा है़  पिछले वर्ष लाकडाउन की वजह से देश के सारे व्यवसाय ठप हो गए थे़  कंपनियों की आर्थिक हालत खराब होने से कई युवाओं की नौकरियां खतरे में है़ सरकार अन्यों के लिए नये-नये पैकेज घोषित कर रही है़ मजदूरों को तथा राशनकार्ड धारकों को 5 किलो चावल प्रति व्यक्ति मुफ्त में दे रही है़ किंतु देश का अन्नदाता इस योजना का लाभ नहीं दिया जा रहा है़  अन्नदाता के साथ ही अन्याय किए जाने का सवाल उपस्थित हो रहा है.

    अन्नदाता के साथ अन्याय पर उठ रहा सवाल 

    जो देश को अपने खून का पसीना पानी करके अनाज पैदा करता है तथा देश की जनता का पेट भरता है़  उसी अन्नदाता को मुफ्त में दिए जाने वाले 5 किलो चावल नहीं दिए जा रहे है़  किसान कार्ड को इस योजना से दूर रखा गया है़  वहीं आज अन्नदाता को इसकी अत्यंत आवश्यकता है. 80 प्रतिशत किसान जिनके पास 5 एकड़ से भी कम जमीन है और यह किसान अपने खेती का काम कर मजदूरी भी करते है़  इस लाकडाउन की वजह से किसान मजदूर की हालत खराब हो गई़  मजदूरी न होने से इनके भी खाने के लाले पड़ रहे है़.  

    किसानी कार्ड पर मात्र 2 किलो चावल व 3 किलो गेहूं 

    परिणामवश ऐसे किसानों को जिनके किसानी कार्ड है तथा जिन्हें महीने में सिर्फ 2 किलो चावल और 3 किलो गेहूं मिलता है़  उन्हें 5 किलो चावल मुफ्त देना सरकार का प्रथम कर्तव्य है़  किंतु उन्हें सरकार ने 5 किलो अनाज मुफ्त योजना से दूर रखा गया है़  दूसरे बड़े किसानों के खेतों में काम करते है़  इस लाकडाउन की वजह से किसान मजदूर की हालत खराब हो गई़  मजदूरी न होने से इनके भी खाने के लाले पड़ रहे है़ं  परिणामश ऐसे किसानों को जिनके किसानी कार्ड है तथा जिन्हें महीने में मात्र 2 किलो चावल और 3 किलो गेहूं मिलता है़  उन्हें 5 किलो चावल मुफ्त देना सरकार का प्रथम कर्तव्य है़  किंतु इन्हे सरकार 5 किलो मुफ्त योजना से दूर रखा गया है.  

    प्राकृतिक आपदा से फसल का निरंतर हो रहा नुकसान

    पिछले 2 वर्ष से किसानों की हालत चिंताजनक हो गई है़  पिछले वर्ष सोयाबीन, कपास की फसल नष्ट हो गई थी़  विशेष अन्तोदय योजना के अंतर्गत प्रति कार्ड 15 किलो चावल तथा 20 किलो अनाज मात्र 90 रु. में दिया जाता और यह 35 किलो अनाज 2 या 3 व्यक्ति को ही मिलता है़  क्योंकि अंत्योदय के कार्ड ही लोगों ने इस प्रकार से बनाकर रखे है. अगर अनाज की कमी होती है तो अंत्योदय योजना के अंतर्गत कार्ड धारक को मिलने वाले अनाज में 90 किलो अनाज मुफ्त तथा 25 किलो अनाज के पैसे लिए जाए ताकि अनाज की कमतरता भी नहीं रहेगी.