Wardha APMC Ruckus

  • गारंटी मूल्य को लेकर कर्मियों से बहस

देवली. बुधवार की दोपहर एपीएमसी मार्केट यार्ड में गारंटी मूल्य को लेकर कपास उत्पादक किसानों ने हंगामा मचाया. हंगामा बढ़ता देख एपीएमसी कर्मियों ने पुलिस को बुला लिया, जिससे एपीएमसी परिसर में तनाव का माहौल बना रहा. इस दौरान एपीएमसी के संचालक मंगेश वानखेड़े ने आकर सीसीआई अधिकारी और किसानो के बीच बातचीत कर हल निकाला, तब जाकर मामला शांत हुआ और एपीएमसी यार्ड में कपास खरीदी पूर्ववत तरीके से शुरू हुई.

जानकारी के अनुसार ग्रामीण क्षेत्र से आए कुछ किसानों की कपास के गारंटी मूल्य को लेकर सीसीआई अधिकारी नरेंद्र देसले बहस हो गई. गुस्साएं किसानों ने एपीएमसी के दोनों दरवाजों पर अपने वाहन खड़े कर दिए. इस कारण अंदर से न कोई वाहन आ रहा था, न कोई वहां जा रहा था. इस कारण वहां हंगामा हो गया, तभी एपीएमसी के संचालक मंगेश वानखेड़े ने आकर सीसीआई अधिकारी और किसानो के बीच बातचीत कर हल निकाल लिया. तब जाकर मामला शांत हुआ और एपीएमसी यार्ड में खरीदी कपास खरीदी पूर्ववत तरीके से शुरू हुई.

नहीं दिया जा रहा 5,825 रु. दाम

उल्लेखनीय रहे कि एपीएमसी मार्केट यार्ड में इन दिनों कपास की आवक बढ़ गई है, लेकिन किसानों को शासन द्वारा निर्धारित  5,825 रुपए प्रति क्विंटल गारंटी मूल्य नहीं मिल रहा है. वहीं सीसीआई के अधिकारी कपास की गुणवत्ता को लेकर सवाल उठा रहे हैं. कपास की क्वालिटी न होने के कारण गारंटी मूल्य नहीं देने की बात की जा रही है. इस बात को लेकर मंगलवार को भी एमपीएमसी के संचालक और सीसीआई अधिकारी में कहासुनी हुई थी. 

कार्रवाई का अधिकार नहीं : भजनी

पहले ही उपज हानि से किसान परेशान है. ऐसे में जानबूझकर खामियां निकालकर एपीएमसी मार्केट यार्ड में गारंटी मूल्य से कम दाम में माल खरीदी जाने से किसानों का गुस्सा आखिरकार  फूट पड़ा. कुछ ही देर बाद एपीएमसी के एआर प्रकाश भजनी वहां पहुंचे. उनसे बात करने पर उन्होंने कहा कि हमें कुछ शिकायतें प्राप्त हुई है. इस कारण हम यहां पहुंचे अगर कोई किसानों से ज्यादती करता है तो उसकी जांच कर उसकी रिपोर्ट वरिष्ठ से करेंगे. कार्रवाई का अधिकार मेरे पास नहीं है.