Fir
File - Photo

Loading

वर्धा. ग्रांप के अंतर्गत सरकारी काम के लिये फर्जी कार्यादेश तैयार किया गया. इसके लिये ग्रापं के लेटरपैड का दुरुपयोग करते हुए सरपंच व सचिव के जाली हस्ताक्षर कर प्रशासन की आंखों में धूल झोंकी़ प्रकरण में सेवाग्राम पुलिस में शासकीय ठेकेदार भूषण सुधाकर अवचट के खिलाफ मामला दर्ज कर आगे की जांच शुरू कर दी गई है.

मदनी ग्रापं की सचिव सारिका चौधरी(35)ने वरिष्ठों के निर्देश पर थाने में शिकायत दर्ज करायी़.  जिला वार्षिक योजना के तहत जनसुविधा के अंतर्गत गांव के देवघरे से किन्हालकर के मकान तक सीमेंट मार्ग के लिये लिये 7 लाख का निधि मंजूर हुआ था़.  उक्त काम मे़ महाकाली कन्स्ट्रक्शन वर्धा को दिया गया़.  इसके लिये 1 अगस्त 2021 को कार्यादेश भी हुआ़.  इस पर सरपंच ललितकुमार कुरेकर व सचिव चौधरी के हस्ताक्षर व सील था.

उक्त मार्ग का काम एजेन्सी ने शुरू करके अप्रैल 2022 में पूर्ण किया़  काम पर पंस के शाखा अभियंता बिंझाडे की देखरेख थी़.  इस काम का देयक ग्रापं ने चेक द्वारा अदा किया़  इसके पहले ग्रापं के काम शासकीय ठेकेदार सुभाष अवचट काम करते थे़.  उन्होंने 24 जून 2022 को बीडीओ के पास शिकायत की़. इसमें कहा कि सरपंच व सचिव ने 2 अगस्त 2021 को यह काम अवचट को दिया था़.  उन्होंने काम की शुरुआत की़ .

लेटरपैड पर तैयार किया फर्जी कार्यादेश

ग्रापं के लेटरपैड पर कार्यादेश भी पेश किया़.  यह बात संदेहास्पद होने से प्रकरण की बीडीओ स्तर पर जांच की गई़.  इसकी रिपोर्ट जिप के सीईओ को भेजी गई़.  इसमें पता चला कि अवचट ने पुराने कामों के संदर्भ में ग्रापं से कोरे लेटरपैड प्राप्त किये थे़.  इसका दुरुपयोग करते हुए सरपंच व सचिव के जाली हस्ताक्षर कर अपने नाम से कार्यादेश तैयार कर लिया.  प्रकरण के बारे में सरपंच से भी पूछताछ की गई़. जांच पड़ताल के बाद सेवाग्राम पुलिस ने शासकीय ठेकेदार सुभाष अवचट के खिलाफ मामला दर्ज कर आगे की जांच शुरू कर दी है़ .