hospital
Representational Pic

    • नागरी समिति का ज्ञापन

    कारंजा घाडगे. स्थानीय ग्रामीण अस्पताल में जिला शल्यचिकित्सक के निरीक्षण भेंट के दौरान नागरी समस्या संघर्ष समिति ने अस्पताल की वर्तमान समस्या रखकर पूरानी प्रलंबित मांगो का भी स्मरण पत्र दिया. जिला शल्यचिकित्स से चर्चा कर रिक्त पद भरने की मांग की.

    कारंजा तहसील की जनसंख्या 80 से 90 हजार रुपए होकर 80 से 85 ग्राम ग्राम इस ग्रामीण अस्पताल से जुडे हुए है. ग्रामीण अस्पताल की इमारत सुसज्ज है, परंतु मनुष्यबल के अभाव में यहा की सेवा सुविधा प्रभावित हुई है. वैद्यकीय अधिकारी कक्षा 1 का महत्वपूर्ण प्रशासकीय पद गत 12 वर्षो से रिक्त है. यह पद प्रभारी के तौर पर संभाला जाता है.

    गत सितंबर माह में स्थानीय प्रयोगशाला सहायक, सहायक अधीक्षक, प्रयोगशाला तंत्रज्ञ, अधिपरिचारिका, नेत्र चिकित्सक सहायक, औषधि निर्माण अधिकारी ऐसे 6 कर्मचारियों के प्रशासकीय तबादले हुए है. इन छह में से पांच कर्मचारी तबादला होकर दूसरी ओर कार्यरत हुए है. छह में से एक रिलीव है. एक प्रयोगशाला सहायक ही तबादला होकर यहा कार्यरत हुआ है. बाकी जगह रिक्त है. यहा के डा गांगुर्डे ने इस्तीफा दिया है.

    जिससे यह पद भी रिक्त हुआ है. इससे पूर्व के कुछ रिक्त पद सहित मान्यता प्राप्त निकष के तहत वर्तमान स्थायी वअ स्थायी ऐसे कुल 11 पद रिक्त है. अनेक संक्रामक बीमारी, दुर्घटना, प्रसुती, प्रतिदिन बाह्य मरीज विभाग संभालते समय मनुष्य बल कम पड रहा है. परिणाम स्वरुप उसका परिणाम सीधे मरीज सेवा पर हो रहा है.

    कारंजा यह शहर राष्ट्रीय महामार्ग क्रमांक 6 पर बसा है. इस महामार्ग पर बडी दुर्घटना होती है. जिससे यहा ट्रामा केयर युनिट मनुष्यबल व आधुनिक उपकरण से सुसज्ज होना आवश्यक है. जिसकी मांग बार-बार की जा रही है.

    नागरी समस्या संघर्ष समिति ने पूराने मांगो में से अस्पताल के 50 बिस्तर में श्रेणीवर्धन करना, रैम व लिफ्ट, इसीजी की अखंडित सेवा, अस्पताल को एक्झिट गेट का स्मरण कराया. रिक्त पद व अस्पताल की स्वच्छता का मुद्दा प्रमुख रुप से जिला शल्य चिकित्सक के समक्ष रखा. उक्त समय कारंजा नागरी समस्या संघर्ष समिति के महिला व पुरुष कार्यकर्ता उपस्थित थे.