Cotton Crop

    देवली (सं). पिछले सप्ताह से तहसील में नियमित बारिश के कारण कपास सहित सोयाबीन का भारी नुकसान होने लगा है. अब जब कपास के बोंड सड़ रहे हैं तो किसानों में चिंता का माहौल है. फसल उत्पादन में कमी  संभावना जताई जा रही है. किसान एक योजना तैयार करता है कि उसका खेत कितना उत्पादन करेगा और प्रत्येक वर्ष इसकी लागत कितनी होगी, लेकिन इस साल उल्टा हुआ है.

    इस साल बारिश समय पर हुई. इसलिए किसानों ने अपने खेतों में बुआई की. ऐसे किसानों को उम्मीद थी कि, कुछ दिनों में अच्छी बारिश होने से हर साल पैदावार अच्छी होगी, लेकिन कुछ समय बाद बारिश ने जोर पकड़ लिया.

    कुछ दिनों में फिर बारिश शुरू हो गई. अब गत सप्ताह से जारी लगातार बारिश व अतिवृष्टि से कपास के बोंड सड़ने लगे हैं. कपास की फसल लाल पड़ रही है. कपास पर विविध रोगों का प्रादुर्भाव हुआ है. जिससे उत्पादन में भारी कमी आने की संभावना है. उसी तरह सोयाबीन फसल भी संकट में है. जिससे किसानों की चिंता बढ़ गई है.

    लगातार बारिश से नुकसान

    अब कपास की फसल अच्छी फल फूल रही थी. लेकिन निरंतर बारिश के कारण कई पेड़ के फूल गिर जाते हैं, तो बोंड सड़ने लगे हैं. जिससे किसानों का भारी नुकसान हो रहा है.

    सप्ताह भर से जारी है बारिश

    जिले में सप्ताह भर से रुक-रुक कर बारिश जारी है. सोमवार, मंगलवार की शाम तो धुआंधार बारिश हुई. कई इलाकों में अतिवृष्टि देखने को मिली. बारिश के चलते अनेक खेतों में भी पानी घुसने से भारी नुकसान हुआ है. कपास फसल पूरी तरह से सो गई है. वहीं अब अधिक बारिश से फसलों पर विविध रोगों का प्रकोप होने से किसानों की चिंता बढ़ गई है.